राहुल की प्रभारियों के साथ बैठक

0

कांग्रेस ने मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में जीत के लिए आक्रामक रूप लेकर भाजपा पर हमला करने की ठान ली है। चुनावी जीतने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी तीनों राज्यों के प्रभारियों के साथ बैठक करेंगे।

राहुल गांधी ने सभी प्रदेश अध्यक्षों को गुप्त आदेश दिए हैं। इसमें सभी प्रदेश कमेटियों को एक अभियान चलाने को कहा है, जिसकी कमान खुद राहुल के हाथों में होगी। आदेश में राहुल ने कहा है कि अभियान के तहत प्रदेशों में ऐसे प्रोफेशनल्स, सामाजिक कार्यकर्ताओं, भारतीय सेवा के पूर्व अधिकारियों, धार्मिक गुरु और लेखकों को चिन्हित करें, जिनसे समाज के लोग प्रभावित हैं।

चिन्हित लोगों से राहुल खुद मिलेंगे और भाजपा की करतूत बताएंगे। उनसे आग्रह करेंगे कि अपने क्षेत्रों में वे जनता को संविधान से खिलवाड़ करने वाले लोगों के खिलाफ जागरूक करें। राहुल का ध्यान विशेष तौर पर उन लोगों पर है, जो कांग्रेस के सदस्य नहीं है। उन्हें पार्टी से जोड़ा जाए।

गठबंधन पर विचार

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, राहुल गांधी गठबंधन पर भी प्रभारियों के साथ बैठक में चर्चा करेंगे। कांग्रेस और बसपा के बीच चल रही गठबंधन की बातों पर कुछ फैसला हो सकता है। छत्तीसगढ़ में बसपा पिछले विधानसभा चुनाव में महज एक सीट जीत पाई थी, जबकि दो सीटों पर दूसरे नंबर पर थी। कांग्रेस को डर है कि यदि जोगी-मायावती एक साथ आ गए तो जीतना मुश्किल होगा।

मप्र में बसपा ने 2013 विधानसभा चुनाव में 4 सीटें जीती थी और कई सीटों पर दूसरे स्थान पर थी। मध्यप्रदेश में बसपा की ताकत देखते हुए कांग्रेस बसपा से हाथ मिला सकती है।

राजस्थान में भी 2013 विधानसभा चुनाव में बसपा ने 200 में से 195 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे। इनमें से तीन सीटों पर उसके प्रत्याशी को सफलता मिली थी। हालांकि राजस्थान में कांग्रेस बसपा से गठबंधन के पक्ष में नहीं है।

Share.