छत्तीसगढ़ में गठबंधन की तैयारी

0

छत्तीसगढ़ में आगामी विधानसभा चुनाव में जहां भाजपा और कांग्रेस सत्ता के लिए लड़ते नज़र आएंगे वहीं छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी भी इस बार चुनावी रण में सक्रिय नज़र आ रहे हैं| जोगी की राजनीतिक पार्टी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ में तीसरा दल बनकर उभर रही है और अब यह अटकलें और भी तेज़ हो गई हैं, जब पार्टी प्रमुख अजीत जोगी और बसपा सुप्रीमो मायावती ने दिल्ली में मुलाक़ात की है|

कांग्रेस और बसपा के बीच गठजोड़ की अटकलों पर विराम लगने के बाद बुधवार को एक नए समीकरण के संकेत मिले। दिल्ली में बसपा प्रमुख मायावती ने जोगी कांग्रेस के प्रमुख अजीत जोगी से मुलाकात कर गठबंधन की संभावनाओं पर चर्चा की| दोनों नेताओं के बीच करीब एक घंटे बातचीत हुई| इस दौरान विधायक अमित जोगी भी मौजूद थे| माना जा रहा है दोनों पार्टियों के बीच 2018 के विधानसभा चुनाव और 2019 के आम चुनाव को लेकर चर्चा हुई| बसपा के पूर्व अध्यक्ष स्व. कांशीराम से अजीत जोगी के गहरे रिश्ते रहे हैं| जोगी की मायावती से भी निकटता रही है| जोगी की प्रदेश में अनुसूचित जाति वर्ग में खासी पैठ है वहीं यह वर्ग बसपा का भी बड़ा वोट बैंक रहा है |

पिछली चारों ही विधानसभाओं में बसपा के एक-दो विधायक चुनकर आते रहे हैं| वहीं कई सीटों पर भाजपा और कांग्रेस की हार के कारण बनती रही है। इस बार बसपा की तरफ से कांग्रेस के साथ गठबंधन की चर्चाएं थी| छत्तीसगढ़ कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने ऑफर भी दिया था| पिछले माह कांग्रेस प्रभारी पुनिया ने गठबंधन की अटकलों को खारिज कर दिया| ऐसे में जोगी बसपा के साथ तालमेल कर सकते हैं|

Share.