अब नीतीश कुमार की नज़रें मध्यप्रदेश पर…

0

मध्यप्रदेश चुनाव में सियासी खिचड़ी पकना शुरू हो गई है। भाजपा जहां अपना राज़ बचाने के लिए मैदान में उतरेगी वहीं कांग्रेस का विचार बस किसी तरह शिवराज सरकार के विजय किले को तहस-नहस करना है। मध्यप्रदेश में अब आम आदमी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी के बाद एक और राजनीतिक पार्टी मध्यप्रदेश में सरकार बनाने की दौड़ में शामिल हो गई है।

सभी सीटों पर प्रत्याशी उतारने की तैयारी

जनता दल यूनाइटेड (जदयू) ने मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए अपना जनाधार तलाशना शुरू कर दिया है। जदयू ने ऐलान किया है कि वह सभी 230 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारेगी। खासतौर पर बुंदेलखंड, महाकौशल और आदिवासी क्षेत्रों पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। 80 फीसदी टिकट युवाओं को दिए जाएंगे।

संगठन का विस्तार

जदयू के प्रदेशाध्यक्ष सूरज जायसवाल ने भोपाल में विधानसभा चुनाव को देखते हुए सामाजिक, राजनीतिक, महंगाई और भ्रष्टाचार सहित जनहित के मुद्दों को उठाने के लिए संगठन का विस्तार किया। जायसवाल ने युवा नेता टिकेंश राज को प्रदेश संयोजक छात्र प्रकोष्ठ और शेख अज़ीम को जिला अध्यक्ष अल्पसंख्यक मोर्चा नियुक्त किया है।

मप्र पुरानी कर्मभूमि

प्रदेशाध्यक्ष सूरज जायसवाल ने कहा कि भले ही अभी मप्र में कोई राजनीतिक वजूद न हो, लेकिन यह समाजवादियों की पुरानी कर्मभूमि रही है इसलिए जदयू संगठन मजबूती से सभी सीटों पर अपने प्रत्याशी मैदान में उतारेगी। उन्होंने कहा कि जल्द ही राष्ट्रीय कार्यकारिणी में मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर भी निर्णय लिए जाएंगे।

Share.