महू विधानसभा सीट को लेकर भाजपा में तकरार

0

मध्यप्रदेश के महू में भारतीय जनता पार्टी में अंदरूनी कलह अभी भी जारी है। महू में बाहरी उम्मीदवार और स्थानीय नेताओं में कोई भी इस लायक नहीं है, जो उषा ठाकुर से मुकाबला कर सके। इस बात से उपजे विवाद ने महू के भाजपा नेताओं के बीच एक मनमुटाव पैदा कर दिया है। यह अंदरूनी कलह पार्टी के लिए नुकसानदेह भी साबित हो सकती है। वहीं जिलाध्यक्ष ने स्थानीय नेताओं को अंतरसिंह दरबार के मुकाबले कमजोर बताने वाले मंडल अध्यक्ष दीपक कदम को महू भाजपा कार्यालय से बाहर का रास्ता दिखा दिया है।

कैलाश विजयवर्गीय द्वारा अपने विधायकी कार्यकाल के दौरान क्षेत्र के विकास कार्यों के अलावा क्षेत्र के लोगों के निजी कार्य भी करवाए गए थे। यह निजी कार्य विजयवर्गीय के प्रतिनिधि दीपक कदम द्वारा करवाए गए थे। अब महू विधानसभा से उषा ठाकुर को चुनावी मैदान में उतारा गया है तो उनके पक्ष में मतदान करवाने के लिए विजयवर्गीय के निर्देश पर उनके प्रतिनिधि कदम द्वारा उन लोगों का डाटा कार्यालय से निकाला गया, जिनके निजी कार्य कदम ने विजयवर्गीय के कार्यकाल के दौरान करवाए थे।

एकत्र  किए गए डाटा के आधार पर उन लोगों से संपर्क कर विजयवर्गीय के कार्यकाल में करवाए गए कार्यों का हवाला देकर महू से चुनावी मैदान में उतरीं ठाकुर के पक्ष में मतदान की अपील की जा रही थी। वहीं सूत्रों ने जानकरी दी कि जब जिला अध्यक्ष अशोक सोमानी और राधेश्याम सोमानी को इस बात की खबर लगी कि दीपक कदम महू कार्यालय में बैठकर काम कर रहे हैं, तब दोनों कार्यालय पहुंचे और दीपक कदम को कार्यालय से बाहर का रास्ता दिखा दिया। ठाकुर को चुनावी मैदान में उतारने से पूर्व 5 नेताओं द्वारा महू सीट से उम्मीदवारी जताई जा रही थी और बाहरी प्रत्याशी का विरोध किया जा रहा था। उस वक़्त कदम ने बयान दिया था कि महू का कोई भी नेता अंतरसिंह दरबार का मुकाबला करने के लायक नहीं है, सिवाय आकाश और कैलाश के। ऐसे में अटकलें लगाई जा रही हैं कि इसी बात को लेकर पार्टी में मनमुटाव चल रहा है।

Share.