राहुल की तैयारी, मध्यप्रदेश में करेंगे हाथी की सवारी

0

मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव जीतने के लिए राहुल गांधी अब सियासी समीकरण साधने में जुट गए हैं| राहुल गांधी किसी भी कीमत पर अन्य राज्यों की तरह मध्यप्रदेश को अपने हाथों से नहीं जाने देना चाहते हैं| लिहाजा कई मुद्दों पर वे कांग्रेस की परंपरा को भी बदल रहे हैं| सोमवार को राहुल गांधी ने कुछ ऐसे ही बदलाव के संकेत दिए| राहुल गांधी ने बसपा प्रमुख मायावती से गठबंधन की अटकलों को विराम देते हुए प्रदेश में बसपा से गठबंधन की घोषणा की|

राहुल गांधी ने बसपा प्रमुख मायावती से इस गठबंधन को लेकर चर्चा की| इसके बाद प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कमलनाथ ने भी सोमवार को मायावती से मुलाकात की|  इस दौरान प्रदेश में आगामी चुनाव में कुछ सीटों को लेकर दोनों नेताओं के बीच सहमति बनी|

बताया जा रहा है कि विन्ध्य, बुंदेलखंड, भिंड, मुरैना और ग्वालियर अंचल में कांग्रेस बसपा के लिए कुछ सीटें छोड़ सकती हैं| इन क्षेत्रों में इस पार्टी का प्रभाव भी है| बताया जा रहा है कि इससे पहले 2013 में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 36.38 प्रतिशत वोट मिले थे, जबकि बसपा को 6.29 फीसदी से ज्यादा वोट मिले थे| इस चुनाव में बसपा के 4 विधायक चुने गए थे| इस बार बसपा को यदि कांग्रेस का समर्थन मिला तो यह संख्या बढ़ सकती है|

सीटें अभी तय नहीं

गठबंधन की ख़बरों के बारे में जानकारी देते हुए प्रदेश कांग्रेस के मीडिया प्रभारी माणक अग्रवाल ने बताया कि दोनों पार्टी के नेताओं के बीच इस चुनाव को मिलकर लड़ने की सहमति बनी है| उन्होंने बताया कि अभी यह तय नहीं हुआ है कि बसपा को कितनी सीटें दी जाएंगी, लेकिन चुनाव से पूर्व होने वाले सर्वे के बाद सीटों की संख्या निर्धारित की जाएगी|

Share.