मानवेंद्रसिंह की स्वाभिमानी सेना की परीक्षा

0

भाजपा का दामन छोड़ कांग्रेस में शामिल होने वाले मानवेंद्र सिंह की स्वाभिमान सेना की परीक्षा है। जैसलमेर में बुधवार को होने वाले मानवेंद्र के दौरे में यह साफ हो जाएगा कि उनके कांग्रेस में शामिल होने के बाद उनके समर्थकों का सहयोग उनके साथ बरकरार है या नहीं। मानवेंद्र के इस दौरे पर भाजपा की निगाहें बनी हुई हैं। मानवेंद्र सिंह के कांग्रेस में शामिल होने के बाद जैसलमेर पहुंचने पर स्वाभिमानी सेना की परीक्षा होगी। यह तय होगा कि कितनी संख्या में स्वाभिमान सैनिक अपने संगठनों को छोड़ कांग्रेस का साथ देंगे।

मानवेंद्रसिंह के कांग्रेस में शामिल होने के बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जश्न बनाया था, लेकिन भाजपा-राजपूत समाज की तरफ से कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आई। कहा जा रहा था कि स्वाभिमानी सेना के कार्यकर्ता मानवेंद्र सिंह के जैसलमेर दौरे पर उनका स्वागत करेंगे और कांग्रेस में शामिल होंगे। अब ऐसे में बुधवार को स्वाभिमानी सेना की परीक्षा होगी और देखना होगा कि अपने संगठन और भाजपा को ताकत देने वाले कार्यकर्ता क्या कांग्रेस में शामिल होंगे।

फिलहाल मानवेंद्रसिंह के समर्थक मौन बैठे हैं और न ही कांग्रेस के पास स्वाभिमानी सेना की कोई सूचना आई है। जैसलमेर जिले में जसवंतसिंह व मानवेंद्रसिंह का खासा प्रभाव है, लेकिन स्वाभिमान को छोड़कर उनके समर्थक कांग्रेस में शामिल होंगे। यह देखना होगा।

गौरतलब है कि पिछले लोकसभा चुनावों में जसवंतसिंह निर्दलीय के रूप में चुनाव हार गए थे, लेकिन जैसलमेर विधानसभा से करीबन 21 हजार मतों से आगे रहे थे। मोदी लहर के बावजूद जैसलमेर विधानसभा से 21 हजार मतों से आगे रहना जसवंतसिंह के प्रभाव को दर्शाता है। वहीं मानवेंद्र सिंह व उनकी स्वाभिमान सेना पर भाजपा की नज़रें बनी हुई है।

Share.