कमलनाथ ने खुलेआम सरकारी अफसरों को दी धमकी

2

मध्यप्रदेश में आगामी 28 नवंबर को 230 विधानसभा सीटों पर मतदान होने वाले हैं। भाजपा और कांग्रेस दोनों ही पूरी ताकत से सत्ता पाने की होड़ में लगी है। एक तरफ भाजपा के खेमे में कई स्टार प्रचारक हैं, जो ताबड़तोड़ सभाएं कर कांग्रेस को अपने निशाने पर ले रहे हैं वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस भी अंधाधुंध सभाएं कर भाजपा के हर वार का जवाब दे रही है। सागर जिले के खुरई में आयोजित कांग्रेस की एक सभा में जब कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ पहुंचे, तब उन्होंने मंच से सरकारी कर्मचारियों को खुलेआम धमकी दे डाली।

गौरतलब है कि चुनाव प्रचार के दौरान एक रैली को संबोधित कर रहे कमलनाथ ने सरकारी कर्मचारियों को धमकाते हुए कहा कि जो भी अधिकारी या कर्मचारी सही तरीके से काम नहीं करता या विपक्ष की खिदमत में लगा रहता है, जो भाजपा का तमगा अपनी जेब में लेकर घूमता है, वे सतर्क हो जाएं।  11 दिसंबर को जब गिनती होगी और 12 तारीख आएगी, तब कमलनाथ की चक्की चलती है देर से, पर बहुत बारीक पीसती है। खुलेआम इस तरह की धमकी कमलनाथ द्वारा सरकारी कर्मचारियों को दी गई।

इस बार भारतीय जनता पार्टी ने अपनी चुनावी योजना के तहत ‘कमल दीवाली’ मनाने का कार्यक्रम तय किया है। इस कार्यक्रम के तहत 21 नवंबर को प्रदेश भर में कार्यकर्ताओं को अपने घर में रोशनी करने को कहा गया है। भारतीय जनता पार्टी ने इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए व्यापक पैमाने पर तैयारी कर ली है। वहीं कांग्रेस ने भी ट्वीट कर उसी तारीख यानी 21 नवंबर को अपने कार्यकर्ताओं से पूरे प्रदेश में ‘बदलाव की बाती’ नामक कार्यक्रम के माध्यम से कपास या सूत की बाती बनाकर देवालयों में दीप प्रज्ज्वलन की अपील की है।

Share.