कमलनाथ ने की मुख्यसचिव को हटाने की मांग

0

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर प्रदेश के मुख्यसचिव बसंत प्रताप सिंह को हटाने की मांग की है। उन्होंने पत्र लिखकर चुनाव आयोग से आग्रह किया है कि आगामी विधानसभा चुनाव में निष्पक्षता बनी रहे, इसके लिए उन्हें हटाना चाहिए। साथ ही आयोग मुख्य सचिव को बदलने के लिए राज्य सरकार को निर्देश दे। कमलनाथ ने पत्र के माध्यम से चुनाव आयोग से कहा कि मध्यप्रदेश में सत्ताधारी पार्टी सत्ता का दुरुपयोग कर रही है। उन्होंने कहा कि भाजपा की मंशा निष्पक्ष चुनाव करवाने की नहीं है।

मुख्य सचिव का कार्यकाल बढ़ाया

कमलनाथ ने पत्र में लिखा है कि राज्य सरकार ने 21 मई, 2018 को प्रदेश के मुख्य सचिव का कार्यकाल छह माह के लिए बढ़ाया है। यह कार्यकाल चुनाव अवधि तक रहेगा। उन्होंने कहा कि जिन अधिकारियों की सेवावृद्धि की जाती है, वे सरकार के प्रति आभारी रहते हैं और कई बार सत्ताधारी पार्टी अपने फायदे के लिए प्रशासनिक अधिकारों का दुरुपयोग करती है।

प्रशासनिक अधिकारों का दुरुपयोग

कमलनाथ ने लिखा है कि फंडामेंटल रूल एफआर 56-ए के अनुरूप सरकारी कर्मचारी को 60 साल की उम्र पूरी करने वाले माह के आखिरी दिन सेवानिवृत्त हो जाना चाहिए। मप्र के मुख्यसचिव उस उम्र को पहले ही पूरी कर चुके हैं। उनकी सेवावृद्धि जनहित में नहीं है बल्कि उनके प्रशासनिक अधिकारों का दुरुपयोग आगामी विधानसभा चुनाव में किए जाने के इरादे से की गई है।

कमलनाथ ने राजस्थान का उदाहरण देते हुए लिखा है कि वहां भी नए मुख्यसचिव डीबी गुप्ता को नियुक्त किया गया है ताकि वे निवर्तमान मुख्य सचिव निहालचंद गोयल का स्थान ले सकें। राजस्थान में भी 2018 में चुनाव होना है इसलिए मप्र में मुख्यसचिव को सेवावृद्धि दिए जाने के लिए चुनाव का बहाना नहीं बनाया जा सकता।

Share.