टिकट के दावेदारों में मारामारी शुरू

0

मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव नज़दीक आते जा रहे हैं। पार्टी जीतने के लिए हरसंभव प्रयास कर रही है, लेकिन इस बार हैरान करने वाली खबर सामने आई है। पार्टी अपनी ख़ुद की बनाई रणनीति में फंसती नज़र आ रही है।

भाजपा ने मिशन 2018 के लिए मध्यप्रदेश में 12 से ज्यादा समितियां बनाई हैं। इन समितियों में जो नेता रखे गए हैं, उनमें से ज्यादातर खुद ही टिकट की दौड़ में शामिल हो गए हैं। पार्टी में घमासान मचा हुआ है| जिन प्रत्याशी को चुनने और चुनाव जिताने की जिम्मेदारी संगठन ने दी थी, वे अब खुद के लिए टिकट की जुगाड़ लगा रहे हैं।

हालात ये हैं कि अब तक करीब 60 फीसदी पदाधिकारी अपनी दावेदारी पेश कर चुके हैं। यही हाल प्रदेश संगठन के पदाधिकारियों का भी है। इतने सारे दावेदार देखकर पार्टी परेशानी में आखिर ऐसे में चुनाव लड़ेगा कौन और लड़वाएगा कौन। पार्टी अध्यक्ष अमित शाह पहले ही कह चुके हैं कि इस बार चुनाव, संगठन के चेहरे पर होगा।

भाजपा की 12 से ज्यादा चुनाव समितियों के 22 नेता टिकट के दावेदार हैं। इनमें मंत्री, पूर्व मंत्री, विधायक, सांसद, चुनाव हार चुके नेता, प्रदेश संगठन में भी यही स्थिति है। संगठन के कई पदाधिकारी भी टिकट की जुगाड़ में घूम रहे हैं। भाजपा के सामने बड़ी मुश्किल खड़ी हो गई है, जिनके कंधों पर जीत की ज़िम्मेदारी है, वो ही टिकट मांग रहे हैं।

Share.