नकली उम्मीदवारों ने बढ़ाई नेताओं की नींद

0

प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले सभी लोगों की निगाहें इस बात पर टिकी हुई हैं कि इस बार उनकी विधानसभा से जनता का चेहरा कौन होगा। प्रदेश में भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दल अपने उम्मीदवारों के चयन में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते हैं, लेकिन इस बीच यदा-कदा प्रत्याशियों के नामों की जो सूची मार्केट में उतरती है, उससे नेताओं के पसीने छूट रहे हैं, वहीं मजे लेने वाले मजे भी ले रहे हैं।

मध्यप्रदेश के विधानसभा चुनाव में सभी नेता लोग तो तैयारी में लगे ही हैं, लेकिन कुछ भाई लोग, जिन्हें सामान्य भाषा में पट्ठे भी कहते हैं, वे अपनी ही मस्ती में मस्त हैं। इनके लिए अपना नेता ही विधायक है, बाकी सब पानी कम चाय हैं। यही कारण है कि ये लोग अपने भैया को जंचाने के लिए उनके नाम का महिमामंडन करने से कहीं भी नहीं चूक रहे हैं।

ऐसे में ये लोग अपने नेता को विधायक बनाने के लिए इतने आतुर हैं कि उनकी दावेदारी भी वे खुद ही तय कर देते हैं। ऐसे ही कई अति उत्साही समर्थकों ने कुछ दिनों पहले ही भाजपा की एक सूची जारी की थी। इस सूची को इसलिए भी सही मान लिया गया क्योंकि उसमें कुछ नाम ऐसे थे, जिनके टिकट उस क्षेत्र से तय ही हैं। इसी का फायदा उठाते हुए इन कार्यकर्ताओं ने सूची में अपने नेता का नाम भी फंसा दिया।

अब भैया जैसे ही यह सूची जारी हुई तो उन नेताओं की तो नींद ही उड़ गई, जो अपनी विधानसभा में दिन-रात एक करके मेहनत कर रहे हैं। कुछ नाम तो ऐसे थे कि खुद वर्तमान में विधायक भी हैरत में आ गए कि मेरे नाम को काटकर पार्टी ने टिकट भी दिया तो किसे।

इस तरह से चुनावी मौसम में नेताओं के मजे लेने का दौर जारी है। कुल मिलाकर हम्माली का काम विधानसभा के प्रत्याशी कर रहे हैं और मजे उनके पट्ठे ले रहे हैं।

-पॉलिटिकल डेस्क

Share.