कांग्रेस तीन राज्यों में करेगी ‘विकास की खोज’

0

तीन राज्यों मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में चुनाव जीतने के लिए कांग्रेस को एक नया मुद्दा मिल गया। कांग्रेस पार्टी इन तीनों राज्यों में ‘विकास के मुद्दे’ पर चुनाव लड़ेगी, लेकिन अलग तरीके से।

कांग्रेस तीनों राज्यों में युवाओं को रोजगार, शिक्षा व्यवस्था की हालत और जमीनी सच्चाई के मामलों के साथ विकास की खोज करेगी। इसके लिए पार्टी ने अपनी छात्र इकाई एनएसयूआई को सक्रिय करने की योजना भी बनाई है। एनएसयूआई ही इन राज्यों में युवाओं और विश्वविद्यालय के छात्रों के साथ-साथ आम जनता को जागरूक करने का अभियान चलाएगी।

छत्तीसगढ़ से हुई शुरुआत

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, कांग्रेस अपने प्रचार अभियान में मुख्य रूप से युवा मतदाताओं, छात्रों आदि को लक्ष्य बनाने वाली है। उनसे अपील करेगी कि वे अपने-अपने राज्यों के सीएम को पोस्टकार्ड लिखकर भेजें। उन्हें बताएं कि कैसे और कहां उनके इलाकों से विकास गुम हो गया है। इसकी शुरुआत छत्तीसगढ़ से हो चुकी है।

50,000 पोस्टकार्ड इकट्ठे किए

रिपोर्ट के मुताबिक, अब तक छत्तीसगढ़ में 50,000 पोस्टकार्ड इकट्ठे किए जा चुके हैं। इन्हें सीएम रमनसिंह के पास भेजा जा रहा है, जो मई के महीने से पूरे प्रदेश में ‘विकास यात्रा’ पर हैं। इन पोस्टकार्डों में सीएम को जनता ने उन तमाम दिक्कतों के बारे में बताया है, जो उनके इलाकों में उनके सामने पेश आ रही है। फिर वे चाहे सरकारी स्कूलों में शिक्षकों और अस्पतालों में डॉक्टरों की कमी का मामला हो या पीने के पानी का संकट।

राजस्थान में 800 को-ऑर्डिनेटर नियुक्त

छत्तीसगढ़ के अलावा राजस्थान में भी पार्टी ने चुनाव को देखते हुए युवाओं पर ध्यान केंद्रित किया है। राजस्थान में एनएसयूआई ने पहली बार ब्लॉक स्तर पर 800 को-ऑर्डिनेटर नियुक्त किए हैं, जो विकास के मुद्दों पर पार्टी का संदेश युवा वोटरों तक पहुंचाएंगे।

मप्र में रोज़गार पर फोकस

मध्यप्रदेश में कांग्रेस, भाजपा सरकार के खिलाफ कृषि और किसानों की समस्याओं के साथ युवाओं की रोज़गार की समस्या पर ध्यान दे रही है। कांग्रेस ने प्रदेशभर के ढाई लाख युवाओं के नौकरी के लिए आवेदन जुटाए हैं। पार्टी हर विधानसभा सीट पर हेल्प डेस्क बनाकर युवाओं से आवेदन भरवाएगी। सभी आवेदन सीएम शिवराजसिंह चौहान के पास जाएंगे।

Share.