कोटा से कांग्रेस काटेगी जोगी का पत्ता

0

छत्तीसगढ़ कांग्रेस में टिकट समीकरण को लेकर जमकर राजनीति देखने को मिल रही है। स्थिति यह है कि 90 सीटों पर लगभग 1000 दावेदारों ने फॉर्म जमा किए हैं।  इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री और जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ सुप्रीमो अजीत जोगी की पत्नी रेणु जोगी के कोटा विधानसभा क्षेत्र से टिकट की उम्मीदवारी लगभग ख़त्म नज़र आ रही है। प्रदेश कांग्रेस रेणु जोगी को कुछ ऐसे दरकिनार कर रही है मानो वे 15 साल से विधायक नहीं, बल्कि पहली बार चुनाव लड़ने वाली प्रत्याशी हैं।

हालांकि अजीत जोगी स्पष्ट कर चुके हैं कि उनकी पत्नी कांग्रेस से ही चुनाव लड़ेगी क्योंकि उनकी सोनिया गांधी के प्रति आस्था है, लेकिन छत्तीसगढ़ कांग्रेस कमेटी का रुख रेणु जोगी के लिए नरम नहीं हो पा रहा है| इसका एक कारण अजीत जोगी की नई पार्टी गठन करना भी है। रेणु जोगी के पति अजीत जोगी ने कांग्रेस का हाथ छोड़ा तो इस बार कांग्रेस के खिलाफ अपने प्रत्याशी उतारने की घोषणा भी कर दी है| लाख कवायदों के बाद भी जोगी की पत्नी की कांग्रेस  उपेक्षा ही कर रही है|

कोटा विधानसभा क्षेत्र में ब्लॉक कांग्रेस ने रेणु जोगी के दावेदारी के फॉर्म पर हामी नहीं भरी है। दरअसल, समर्थक के हाथ फॉर्म भेजे जाने पर ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष ने फॉर्म स्वीकार नहीं किया था। इस मुद्दे पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के बयान से भी यह जाहिर होता है कि  इस बार रेणु जोगी के लिए कांग्रेसी खेमे में कोई जगह नहीं है। पीसीसी चीफ भूपेश बघेल का रेणु जोगी की दावेदारी पर कहना है कि  उनके आवेदन को स्वीकार करें या नहीं, यह ब्लॉक अध्यक्ष का अधिकार है। मुझे तो यह पता भी नहीं है कि किसने दावेदारी की है और किसने नहीं।

वहीं पार्टी सूत्रों के अनुसार रेणु जोगी को किसी भी तरह से टिकट न मिले, इसके लिए पार्टी के ज्यादातर नेता सक्रिय हैं। इस कारण रेणु जोगी की लगातार अनदेखी की जा रही है। रेणु जोगी ने भी पार्टी में अपनी सक्रियता लगभग खत्म कर ली है। लंबे समय से पार्टी के कार्यक्रमों और अन्य गतिविधियों में उनकी उपस्थिति नहीं दिख रही है। चुनावी दौर में जब रेणु ने कांग्रेस के प्रति आत्मीयता दिखाई, तब भी कांग्रेस को यह रास नहीं आया|

गौरतलब है कि कोटा विधानसभा क्षेत्र में रेणु के अलावा 12 अन्य नेताओं ने दावेदारी पेश की है। वहीं मौजूदा हालात में यह तो तय है कि कांग्रेस रेणु जोगी पर कोई दांव नहीं खेलेगी। कांग्रेस इस बार रेणु का टिकट काटने के मूड में है। वहीँ सूत्रों की मानें तो कोटा विधानसभा क्षेत्र में प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता शैलेष पांडेय का नाम लगभग तय माना जा रहा है। जोगी परिवार का दो पार्टियों में दांव खेलने की यह नीति यहां तो फेल ही नज़र आ रही है।  अब देखना होगा की अजीत जोगी की पत्नी ऐसे हालात में कांग्रेस का साथ कब तक देती है।

– पॉलिटिकल डेस्क

Share.