राजस्थान: प्रदेश कांग्रेस के पास नहीं है चुनाव लड़ने का पैसा

1

राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस-भाजपा ने अपनी कवायद तेज़ कर दी है। चुनावी रणभूमि में भाजपा को धूल चटाने में जुटी कांग्रेस के पास पैसों की कमी हैं। प्रदेश कांग्रेस के पास विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए फंड नहीं है। इसके लिए कांग्रेस ने जनता से पार्टी को क्राउंड फंडिंग के जरिये पैसा देने की अपील की है। इसके लिए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने एक वीडियो भी जारी किया है।

चुनाव नज़दीक आते ही कांग्रेस को पैसे का डर सताने लगा है। वीडियो में कहा गया है कि वर्तमान राजनीतिक स्थिति में कोई बड़ा उद्योगपति कांग्रेस को राशि देने को तैयार नहीं है। वहीं भाजपा के पास किसी भी तरह के संसाधनों की कमी नहीं है। हर चुनाव में भाजपा करोड़ों रुपए खर्च कर रही है। वीडियो में पायलट ने कहा, हम राजनीतिक फंडिंग में पारदर्शिता लाना चाहते हैं इसलिए यह कदम उठाया है। वीडियो में प्रदेश कांग्रेस ने साफ किया कि वह जनता से पैसे जुटाएगी और चुनाव लड़ेगी।

वीडियो में सचिन पायलट ने कहा कि पैसा महत्वपूर्ण नहीं है, बल्कि जनता का जुड़ाव महत्वपूर्ण है। वीडियो में कर्नाटक चुनाव में भाजपा ने विज्ञापन पर किए करीब 300 करोड़ रुपए खर्च को भी दिखाया गया है। वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ गौतम अडानी और अनिल अंबानी की फोटो लगाकर यह बताने की कोशिश भी की कि भाजपा उद्योगपतियों के साथ है।

गौरतलब है कि केरल मदद भेजने के वक्त कांग्रेस राष्ट्रीय महासचिव अशोक गहलोत ने भाजपा पर आरोप लगाया था। उन्होंने कहा कि भाजपा ने ऐसा माहौल बना दिया है कि कोई सहयोग करने को तैयार नहीं है। वहीं कांग्रेस की सभा और बैठक में भी कह चुके हैं कि पार्टी का खज़ाना खाली है। टिकट के उम्मीदवार चुनाव लड़ने का इंतजाम खुद करें। इधर, पार्टी ने कोषाध्यक्ष पद से वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा को हटाकर उनके स्थान पर अहमद पटेल को जिम्मेदारी सौंपी है। पटेल को यह जिम्मेदारी मुख्य रूप से चुनाव से पहले फंड इकट्ठा करने के लिए सौंपी गई है।

इस गैंगस्टर की बेटी लड़ सकती है विधानसभा चुनाव

अमित शाह का राजस्थान दौरा, वसुंधरा से नहीं होगी मुलाकात

अमित शाह पहले अपना घर संभालें – गहलोत

Share.