कांग्रेस ने बनाया कार्यकारिणी के लिए नया पैटर्न

0

राजस्थान में विधानसभा चुनाव के लिए पार्टियों ने तैयारी शुरू कर दी है। भाजपा ने जहां चुनावी अभियान शुरू कर दिया है वहीं कांग्रेस भी रणनीति बनाने में जुटी है। कांग्रेस ने अब जिला और ब्लॉक कार्यकारिणी बनाने का निर्णय लिया है। इसके तहत कांग्रेस अपनी कार्यकारिणी में सेट पैटर्न लाने जा रही है। अब जिला और ब्लॉक स्तर पर कार्यकारिणी संख्या सीमित रहेगी। नए पैटर्न पर कार्यकारिणी बनने के दौरान कई नेताओं की छुट्टी हो सकती है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, कांग्रेस पार्टी की ओर से तय किया गया है कि अब कांग्रेस की विभिन्न कमेटियों में पदाधिकारियों की संख्या सीमित होगी। इससे जिला और ब्लॉक कार्यकारिणी में पदाधिकारियों के पद का महत्व बढ़ सकेगा। एआईसीसी की ओर से सभी जिला और ब्लॉक अध्यक्षों को फॉर्मेट भेजा गया है, उसी के आधार पर उन्हें कार्यकारिणी बनाने के निर्देश दिए गए हैं।

नए फॉर्मेट के अनुसार जिला कांग्रेस कमेटी में अब 1 अध्यक्ष, 1 संगठन महामंत्री, 1 कोषाध्यक्ष, 24 उपाध्यक्ष, 21 महासचिव, 21 सचिव और 21 संयुक्त सचिव होंगे। इसके अलावा हर जिला कार्यकारिणी में 5 प्रवक्ता होंगे। यानी जिला कार्यकारिणी में अब 94 पदाधिकारी होंगे। वहीं जिला कार्यकारिणी में जिले के पूर्व और वर्तमान सांसद, पूर्व और वर्तमान विधायक, पूर्व और वर्तमान निगम मेयर, अध्यक्ष, जिला कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सदस्य के तौर पर शामिल होंगे।

प्रदेश कांग्रेस ने निर्देशित किया है कि जिला और ब्लॉक कार्यकारिणी में महिला, एससी-एसटी का भी समायोजन किया जाए। जब तक ऐसा नहीं हो, कार्यकारिणी घोषित नहीं की जा सकेगी।

वहीं ब्लॉक कांग्रेस कार्यकारिणी के पदाधिकारियों की संख्या भी तय कर दी गई है। ब्लॉक कार्यकारिणी में 1 अध्यक्ष, 1 संगठन महामंत्री, 1 कोषाध्यक्ष, 12 उपाध्यक्ष, 12 महासचिव, 12 सचिव और 12 संयुक्त सचिव और 2 प्रवक्ता होंगे, जिनकी कुल संख्या 53 होगी। नए फॉर्मेट से बाद सबसे ज्यादा परेशानी जयपुर जिला कांग्रेस में होगी क्योंकि जयपुर में जिला कार्यकारिणी की घोषणा हो चुकी है, जिसमें 351 पदाधिकारी बनाए गए थे। इसके बाद और भी पदाधिकारी बनाए गए थे।

नए फॉर्मेट के बाद सबसे ज्यादा समस्या जयपुर जिला कांग्रेस में होगी क्योंकि जयपुर में जिला कार्यकारिणी की घोषणा हो चुकी है। इसमें 351 पदाधिकारी बनाए गए थे। इसके बाद और भी पदाधिकारी बनाए गए थे। ऐसे में यदि जयपुर जिले में कई कार्यकारिणी से पैटर्न बनती है तो ज्यादातर पदाधिकारियों की छुट्टी होना तय है।

यह खबर भी पढ़े – कांग्रेस से चुनाव लड़ना चाहते हैं पुलिस अफसर

यह खबर भी पढ़े – इन सीटों पर कांग्रेस को करना होगा बदलाव

यह खबर भी पढ़े – राहुल शेखावटी से करेंगे चुनावी शंखनाद

Share.