प्रत्याशियों की सूची जारी होने से पहले जमा हुए दावेदार

0

मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव को लेकर राष्ट्रीय कांग्रेस की चयन समिति की तीन दिनी बैठक दिल्ली में आयोजित की जा रही है। इस बैठक में उन सभी संभावित उम्मीदवारों के नाम तय होंगे, जो इस बार विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ेंगे। ऐसे में टिकट की चाह रखने वाले सभी उम्मीदवार तीन दिनों के लिए दिल्ली में जमा हो गए हैं। उम्मीदवारों की चाह है कि पार्टी उन्हें यहां से ‘बी’ फॉर्म देकर ही लौटाए और वे आकर चुनाव के इस दंगल में कूद सकें।

राष्ट्रीय कांग्रेस की इलेक्शन स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक सोमवार से दिल्ली में शुरू हुई। इस बैठक से पहले ही इंदौर जिले सहित प्रदेशभर के नेता दिल्ली में जमघट लगा चुके थे। सोमवार को हुई बैठक में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजयसिंह और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने राहुल गांधी और अन्य सदस्यों से टिकट के नामों को लेकर चर्चा की। दिनभर चली इस बैठक के दौरान बाहर बैठे कार्यकर्ताओं की धड़कनें भी ऊपर नीचे होती रहीं।

अंत तक कांग्रेस के वरिष्ठ नेता 80 से अधिक टिकटों पर विचार-विमर्श कर चुके थे, लेकिन फिर भी अभी कुछ ही नामों पर समिति की सहमति बनी है। वहीं जो उम्मीदवार दिल्ली में अपने आकाओं का आशीर्वाद लेने गए हैं, उन्हें अपने नेताओं का वरदहस्त अपने माथे पर मिलने की उम्मीद है, लेकिन फिर भी सभी में डर व्याप्त है।

पहले दिन इंदौर से दो नाम तय…

इंदौर से टिकट को लेकर सभी नेता पसोपेश की स्थिति में हैं। इंदौर की आठ विधानसभा सीटों में से अभी कांग्रेस के बड़े नेता सिर्फ दो सीटों पर ही अपनी राय बना पाए हैं। इनमें प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी और पूर्व विधायक तुलसी सिलावट के नाम तय हैं। ये वे नाम हैं, जिनके सामने किसी तरह का विरोध भी नहीं था, लिहाजा इनका सूची में आना कोई बड़ी बात नहीं है। इनके अलावा किसी भी नाम को लेकर पार्टी के नेता अपनी राय नहीं बना पाए हैं क्योंकि शीर्ष नेतृत्व को भी यह डर है कि यदि इंदौर में किसी को टिकट दिया गया तो दूसरा गुट नाराज़ हो सकता है। वहीं टिकट की रेवड़ी इस बार नेता अपने-अपने चाहने वालों को भी नहीं बांट पा रहे हैं क्योंकि इस बार सिर्फ राहुल गांधी की ही चल रही है। ऐसे में टिकट को लेकर अंतिम समय तक घमासान तो चलता ही रहेगा।

यूथ कांग्रेस से 10 टिकट की चाह

कांग्रेस ने इस बार विधानसभा चुनाव में युवाओं को ज्यादा से ज्यादा मौका देने की बात कही थी। चुनाव अभियान समिति के प्रमुख ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा था कि इस बार चुनाव में 30 प्रतिशत युवाओं को मौका दिया जाएगा। इसके बाद से ही यूथ कांग्रेस भी टिकट के लिए दिल्ली की ओर बढ़ गई थी। अभी स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक में युवक कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कुणाल चौधरी,  इंदौर से पूर्व शहर अध्यक्ष पिंटू जोशी और वर्तमान अध्यक्ष अमन बजाज भी दिल्ली में ही डेरा डाले हुए हैं। इनकी चाह है कि कम से कम 10 टिकट कांग्रेस यूथ कांग्रेस को बांटे।

इंदौर से ये नेता भी….

इंदौर से जो नेता इस वक्त दिल्ली में मौजूद हैं, उनमें प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष बाला बच्चन, खातेगांव से टिकट मांग रहे बंटू गुर्जर, देपालपुर के उम्मीदवार विशाल पटेल, अमन बजाज, इंदौर क्षेत्र क्रमांक 5 से टिकट की चाह रखने वाले शेख अलीम, सत्यनारायण पटेल, शहर कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष विनय बाकलीवाल आदि शामिल हैं।

इन्हें मिला आश्वासन…

टिकट का आश्वासन मिलने के बाद सांवेर से उम्मीदवार तुलसी सिलावट निश्चिंत नज़र आ रहे हैं। वैसे भी सिंधिया कोटे से उन्हें टिकट मिलना लगभग तय था। तुलसी सिलावट मंगलवार को अपने घर पर पूजा-पाठ करते नज़र आए।

बसपा-कांग्रेस के गठबंधन से भाजपा को ही होता फायदा…

Share.