छत्तीसगढ़ : वोट का दांव, अब साधेंगे गांव

0

चुनावी साल में छत्तीसगढ़ की सत्ता में वापसी के लिए भारतीय जनता पार्टी कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती है। विधानसभा चुनाव में चौथी बार जीत का परचम लहराने के लिए भाजपा लगातार हर क्षेत्र में जनता से जुड़ने में लगी है। मोबाइल तिहार से लेकर विकास यात्रा तक रमन सरकार चुनावी रण में पूरे जोश के साथ सक्रिय है। इसी के तहत भाजपा मिशन- 65 यानी 65 सीटों में जीत की योजना को लेकर अब प्रदेश के गांवों तक पहुंचेगी। भाजपा के मिशन 65 प्लस को पूरा करने के लिए अब पार्टी के सांसद गांव-गांव घूमेंगे। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने लोकसभा और राज्यसभा सदस्यों को निर्देश दिया है कि लोकसभा की सभी विधानसभा के पांच गांव का दौरा करें और सरकार की उपलब्धियों को बताएंगे।

गौरतलब है कि प्रदेश में भाजपा के दस लोकसभा और तीन राज्यसभा सदस्य हैं। ये सांसद 15 अगस्त के बाद से गांव के दौरे पर निकलेंगे। इसके साथ ही सांसद आदर्श ग्राम की रिपोर्ट भी अमित शाह ने तलब की है। आदर्श ग्राम में आए परिवर्तन और सांसदों के प्रयास के बारे में विस्तार से रिपोर्ट देनी है। भाजपा के आला पदाधिकारियों ने बताया कि मोदी सरकार का फोकस गांवों पर है। यही कारण है कि सांसदों को पहले तीन दिन गांव में गुजारने का निर्देश दिया गया था। इसकी सीधी मॉनीटरिंग मोदी एप से होगी। सांसदों को मोदी एप में भी बताना है कि उन्होंने किन गांव का दौरा किया, वहां पार्टी की स्थिति क्या है और गांव के लोगों को भाजपा सरकार से क्या उम्मीद है।

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के बाद 2019 की लोकसभा चुनाव में भजपा के जीत के लिए गांवों का विकास एक बड़ी चुनौती है। भाजपा को इस बात का भलीभांति ज्ञान है कि गांवों को साधे बिना देश नहीं जीता सकता।

Share.