बाबा साहब के नाम पर ही बसपा की जमानत जब्त

0

विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित होने के बाद यह साफ़ हो गया कि देश में अब बदलाव की बयार बह रही है। हालांकि मध्यप्रदेश में चुनाव परिणामों ने सभी को काफी उलझा के रखा, लेकिन मध्यप्रदेश की एक सीट ऐसी भी है, जहां पिछले 2 बार के चुनाव के बाद, इस बार भी भाजपा ने जीत दर्ज की है। वहीं इस सीट से मायावती की बहुजन समाजवादी पार्टी की हर बार जमानत जब्त होती आई है। और सबसे बड़ी बात यह है कि इस सीट का नाम है डॉ. अंबेडकर नगर (मऊ)।

भारत के संविधान निर्माता, डॉ. भीमराव आंबेडकर को अपना आदर्श मानने वाली, और उनके नाम पर अपनी राजनीति की रोटियां सेकने वाली बसपा, अंबेडकर नगर में अपनी जमानत तक नहीं बचा पाती। आश्चर्य की बात यह भी है कि लोगों को नोटा पसंद है लेकिन बसपा नहीं। इस बार के चुनाव में बसपा प्रत्याशी को इस सीट से केवल 1418 मत प्राप्त हुए हैं। इस सीट पर इससे ज्यादा मत तो 2070 नोटा को मिल गए।

अंबेडकर नगर सीट को 2008 से पहले मऊ के नाम से जाना जाता था, लेकिन भाजपा सरकार ने इसका नाम बदलकर डॉ. आंबेडकर नगर कर दिया। 2008 और 2013 के चुनावों में इस सीट से भाजपा के कैलाश विजयवर्गीय ने जीत का परचम लहराया। विजयवर्गीय ने दोनों ही बार कांग्रेस के अंतर सिंह दरबार को बड़े अंतर से हराया। इस बार भी अंतरसिंह दरबार को हार का सामना करना पड़ा और भाजपा की प्रत्याशी उषा ठाकुर ने जीत दर्ज की। वहीं बसपा को 2008 में इस सीट से 1043 मत प्राप्त हुए थे, और 2013 में उसे 870 वोटों से ही संतुष्ट रहना पड़ा था।

राजस्थान चुनाव: बसपा ने 11 सीटों पर की प्रत्याशियों की घोषणा

मप्र चुनाव: बसपा की पहली लिस्ट जारी

राजस्थान चुनाव :  बसपा से चुनाव लड़ थाम लेते दूसरे दलों का हाथ

Share.