नहीं मिला भाजपा को प्रदेश अध्यक्ष

0

राजस्थान भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा दिए हुए अशोक परनामी को 40 दिन से ज्यादा हो गए, लेकिन अभी तक इस पद के लिए नए नेता की ताजपोशी को लेकर सस्पेंस बरकरार है। अभी तक केंद्रीय और प्रदेश नेताओं के बीच इसे लेकर एक नाम पर सहमति नहीं बन पाई है।

परनामी के इस्तीफे के बाद जोधपुर सांसद व केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री गजेंद्र शेखावत का नाम उभरकर सामने आया था, लेकिन प्रदेश के भाजपा नेताओं के राजपूत को अध्यक्ष बनाए जाने पर जाट वोटों के टूट जाने के तर्क के चलते सहमति नहीं देने से उनके नाम को लंबित कर इस मसले को कर्नाटक चुनाव तक टाल दिया गया।

प्रदेशाध्यक्ष के मामले में आपसी सहमति बनाने के लिए पार्टी पदाधिकारियों ने वी.सतीश और चंद्रशेखर को पहले जिम्मेदारी दी| दोनों पदाधिकारी बातचीत करने के साथ ही इस मसले पर बैठक कर चुके हैं, लेकिन कोई निर्णय नहीं निकल सका। दोनों पदाधिकारी सीएम वसुंधरा के आवास पर भी जाकर चर्चा कर चुके हैं। इसके बाद भाजपा कोर कमेटी की बैठक में भी इस पर चर्चा हो चुकी है।

प्रदेश भाजपा नेताओं की ओर से सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री अरुण चतुर्वेदी, नगरीय विकास मंत्री श्रीचंद कृपलानी, पूर्व मंत्री लक्ष्मीनारायण दवे जैसे कई नाम सुझाए गए, लेकिन किसी एक नाम पर अभी तक एक राय नहीं बनने के कारण भाजपा को प्रदेश अध्यक्ष नहीं मिल पाया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इस मामले में अब पीएम मोदी ने नाराजगी जताते हुए यूपी प्रभारी ओम माथुर को रिपोर्ट पेश करने के लिए कहा। इसके बाद माथुर ने राजस्थान से ताल्लुक रखने वाले केंद्रीय मंत्री सीआर चौधरी और अर्जुन मेघवाल ने मुलाकात भी की।

Share.