अमित शाह का राजस्थान दौरा, वसुंधरा से नहीं होगी मुलाकात

0

राजस्थान विधानसभा चुनाव नज़दीक आने को है। भाजपा और कांग्रेस दोनों ने अपनी तैयारी तेज़ कर दी है। वहीं भाजपा में आपसी लड़ाई खुलकर सामने आने लगी है। हाल ही में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के जयपुर दौरे के समय मुख्यमंत्री वसुंधराराजे मौजूद नहीं थीं। इसके बाद राजनीति गरमा गई है, लेकिन यही स्थिति आगे भी बनती दिख रही है। 16 सितंबर को अमित शाह जोधपुर और पाली के दौरे में आ रहे हैं। इस सभा में भी सीएम राजे मौजूद नहीं रहेंगी।

अध्यक्ष अमित शाह 16 से जोधपुर संभाग के जिलों में भाजपा नेता और कार्यकर्ताओं की बैठक लेंगे। शाह कई सम्मेलनों को संबोधित भी करेंगे। इस दौरान मुख्यमंत्री वसुंधराराजे मौजूद नहीं रहेंगी। वे कोटा संभाग के दौरे में व्यस्त रहेंगी। सीएम राजे 16 सितंबर को कोटा संभाग के बारां जिले के साथ करीब 7 विधानसभा क्षेत्रों का दौरा कर जनसभाओं को संबोधित करेंगी। सीएम का यह दौरा पहले ही बन चुका था। उसके बाद हाल ही में अमित शाह का भी राजस्थान दौरा तय हुआ। दोनों नेताओं के दौरों की तारीख एक है, लेकिन स्थान अलग रखा गया।

शाह और वसुंधरा के एक मंच पर नहीं होने से राजनीति गरमा गई है। कहा जा रहा है कि दोनों नेताओं के रिश्तों में खटास अभी खत्म नहीं हुई है। वहीं इस मामले पर कांग्रेस हमला करने से चूक नहीं रही है। दोनों नेताओं के मंच साझा करने पर हो रही राजनीति पर भाजपा नेता भी बचाव में उतर आए हैं।

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता पिंकेश पोरवाल ने कहा कि पार्टी अध्यक्ष अमित शाह और मुख्यमंत्री वसुधरा राजे कि राजस्थान में अलग-अलग सभाएं करने का मकसद यही हैं कि सभी नेताओं की शक्ति का पूरा इस्तेमाल किया जा सके। उन्होंने कहा कि पिछले चुनाव में भी पार्टी ने इस तरह रणनीति अपनाई थी। उन्होंने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि जो अलग-अलग होते हैं वहीं एकता दिखाने के लिए मोटरसाइकिल पर एक साथ घूमते हैं, जैसे सचिन पायलट और अशोक गहलोत कर रहे हैं।

अमित शाह पहले अपना घर संभालें – गहलोत

कांग्रेस बंद का नाटक कर रही है – सीएम राजे

राजस्थान चुनाव: ये सीटें कांग्रेस के लिए अभिशाप

Share.