विधायक की संपत्ति में 1397 फीसदी बढ़ोतरी

1

मध्यप्रदेश में पिछले 5 वर्षों से सत्ता का स्वाद चख रहे विधायकों की आय सैकड़ों गुना बढ़ गई है। कृषि व्यवसायी और सिरमौर से भाजपा विधायक की संपत्ति में पिछले 5 वर्षों में 1397 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। मध्यप्रदेश इलेक्शन वॉच और एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफाम्स की रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है कि विधायकों की संपत्ति में तेज़ी से बढ़ोतरी हुई है।

प्रदेश विधानसभा चुनाव में उतरे 2 हजार 889 में से 174 प्रत्याशी फिर से चुनावी मैदान में हैं। एडीआर ने 174 प्रत्याशियों द्वारा निर्वाचन पत्र के साथ दिए गए शपथ पत्र का विश्लेषण किया, जिसमें सामने आया है कि किसानों की आय दोगुना करने का दावा भले ही अभी तक ज़मीन पर न उतर सका हो, परंतु भाजपा, कांग्रेस और बसपा के विधायकों की आय में अच्छी खासी बढ़ोतरी हुई है।

सबसे आगे दिव्यराज

भाजपा के सिरमौर विधायक और रीवा राजघराने के दिव्यराजसिंह की संपत्ति में सबसे ज्यादा उछाल आया है। डेयरी व्यवसाय और कृषि से जुड़े दिव्यराज की संपत्ति पिछले पांच वर्षों में 1397 फीसदी बढ़ी है। साल 2013 में दिव्यराज की संपत्ति 4 करोड़ थी, जो 2018 में 62 करोड़ रुपए हो गई।

संपत्ति की बढ़ोतरी में टॉप विधायक

– दिव्यराजसिंह (भाजपा) की संपत्ति 1397 फीसदी बढ़ी, 2013 में 4 करोड़ से बढ़कर 2018 में 62 करोड़ हुई।

– दीपक जोशी (भाजपा) की संपत्ति 596 फीसदी बढ़ी, 2013 में 36 लाख से बढ़कर 2018 में 2 करोड़ हुई।

– सुदेश राय (भाजपा) की संपत्ति 564 फीसदी बढ़ी, 2013 में 10 करोड़ से बढ़कर 2018 में 67 करोड़ हुई।

– नारायण त्रिपाठी (भाजपा) की संपत्ति 473 फीसदी बढ़ी, 2013 में 15 लाख से बढ़कर 89 लाख हुई।

– ऊषा चौधरी (बसपा) की संपत्ति 440 फीसदी बढ़ी 2013 में 12 लाख से बढ़कर 67 लाख हुई।

– शैलेंद्र पटेल (कांग्रेस) की संपत्ति 379 फीसदी बढ़ी, 2013 में 10 करोड़ 33 लाख से बढ़कर 2018 में 13 करोड़ 6 लाख हुई|

Video: कुत्ते भौंक सकते हैं, भाजपा विधायक नहीं – प्रमिला

Video: वरिष्ठ भाजपा नेता ने दिखाया भाजपा विधायक को आईना

Video: भाजपा विधायक के सामने फूटा लोगों का गुस्सा

Share.