राजस्थान चुनाव: क्या सादुलपुर से बसपा बनेगी भाजपा के लिए खतरा?

2

राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए पार्टियों ने अपनी कमर कस ली है। चुनाव से पहले पार्टियों के बीच आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला शुरू हो गया है। भाजपा की तरफ से मुख्यमंत्री वसुंधराराजे मैदान में हैं तो दूसरी तरफ कांग्रेस के सचिन पायलट और अशोक गहलोत मैदान में उतरने को तैयार हैं। तीसरे मोर्चे में भी बसपा, आप, सपा और भारत वाहिनी ने चुनावी शंखनाद कर दिया है। चुनाव से पहले ही बागी नेताओं के चेहरे खुलकर सामने आने लगे हैं। भाजपा को खतरा अपनी ही पार्टी के दिग्गज नेता घनश्याम तिवाड़ी से हैं, जिन्होंने पार्टी छोड़ खुद की पार्टी भारत वाहिनी बना ली है।

चुरू जिले के समीकरण पर नज़र

चुरू जिला शेखावटी क्षेत्र में आता है। यहां कुल 6 विधानसभा सीट हैं। 2013 के चुनाव में जिले में कुल 12,33,051 वोटर्स थे, जिनमें 9,43,249 लोगों ने अपने मतों का इस्तेमाल किया था। यहां 5 सीटें सामान्य वर्ग के लिए और 1 सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है।

सामान्य सीटों में सादुलपुर, तारानगर, सरदारशहर, चुरू, रतनगढ़ है। वहीं सुजानगढ़ सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है। चुरू राजस्थान राज्य के शेखावटी क्षेत्र का एक जिला है। इसे थार मरुस्थल भी कहा जाता है। चुरू की स्थापना 1620 ई. में चूहरू जाट ने की थी।

सादुलपुर सीट

यहां पिछले चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला देखने को मिला था। खास बात थी कि यहां बहुजन समाज पार्टी ने जीत दर्ज की थी। दूसरे स्थान पर भाजपा और तीसरे स्थान पर कांग्रेस रही थी।

2013 चुनाव रिजल्ट पर नज़र

– मनोज कुमार (बसपा) – 59,624(39%)

– कमला कस्वां (भाजपा), 54,798 (35%)

– कृष्णा पूनिया (कांग्रेस), 30,401 (20%)

राजस्थान चुनाव: क्या श्रीमाधोपुर में होगी कांग्रेस की वापसी

राजस्थान: प्रदेश कांग्रेस के पास नहीं है चुनाव लड़ने का पैसा

इस गैंगस्टर की बेटी लड़ सकती है विधानसभा चुनाव

Share.