भाजपा की बैठकों से आ रही हैं डरावनी खबरें

0

मध्यप्रदेश भाजपा में विधानसभा चुनाव के पहले बंद कमरा बैठकों का दौर शुरू हो गया है| ख़ास बात तो यह है कि पार्टी की इन बड़ी बैठकों से अब डरावनी खबरें आ रही हैं| मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान की मौजूदगी में हुई विधायक दल की बैठक के बाद कई विधायकों के समक्ष टिकट का संकट खड़ा हो गया है| अब सभी विधायकों की नज़र और दिमाग जुलाई में आ रही सर्वे रिपोर्ट पर जा टिका है | भाजपा के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष राकेशसिंह की मौजूदगी में हुई बैठक में कई बार अप्रिय स्थिति बनी, जिससे आशंका व्यक्त की जा रही है कि पार्टी के भीतर कुछ-कुछ असामान्य सा चल रहा है| पार्टी के बड़े नेता भी अपने कुछ मंत्रियों और विधायकों के कामकाज से संतुष्ट नहीं हैं |

प्रभारी मंत्रियों के काम में नहीं हुआ सुधार

शिवराजसिंह सरकार में प्रभारी मंत्री बतौर काम कर रहे नेताओं के कामकाज में कोई सुधार नहीं आया हैं | कुछ प्रभारी मंत्रियों को समय -समय पर सालभर से चेतावनियां भी दी जा रही है| खुद मुख्यमंत्री भी कई बार सलाह दे चुके हैं कि प्रभारी मंत्री अपने-अपने प्रभार वाले क्षेत्रों में जाकर विधायकों, नेताओं और कार्यकर्ताओं से चर्चा करें, लेकिन इस पर अमल नहीं के बराबर हुआ| अंततः राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल ने कह दिया कि कुछ जिलों से प्रभारी मंत्रियों के कामकाज को लेकर अच्छी रिपोर्ट नहीं आ रही है।

माइक्रो मैनेजमेंट पर ज़ोर

भाजपा चुनावी साल में एक -एक कार्यकर्ता को सक्रिय करने पर जोर दे रही है | पार्टी के आला नेताओं को पता है कि उसका असल कार्यकर्ता स्वाभिमानी है, जिसे सम्मान देकर ही काम करवाया जा सकता है | ऐसे में बैठक के दौरान रामलाल को कहना पड़ा कि कार्यकर्ता निष्क्रिय होगा तो किसका सम्मान बचेगा। भाजपा  का माइक्रो मैनेजमेंट नहीं होगा तो चुनाव में अच्छी स्थिति नहीं होगी|

जनआशीर्वाद यात्रा और विकास पर्व पर फोकस

भाजपा अगले माह निकाली जाने वाली जनआशीर्वाद यात्रा और विकास पर्व पर फोकस कर रही है| पार्टी की सोच है कि दोनों प्रतिष्ठापूर्ण आयोजनों से आम लोगों को तो जोड़ना ही है|  साथ ही खास लोगों को भी साथ लाना होगा, जिससे  आमजन में एक सकारात्मक संदेश पहुंच सके |

Share.