वसुंधरा को अपने पुराने सिपाहियों पर भरोसा…

0

राजस्थान में चुनाव से पहले भाजपा ने प्रदेश में संगठन के मुखिया का चेहरा तो बदल दिया, लेकिन सिपाही अब भी वसुंधराराजे के ही हैं। वसुंधरा इन्हीं सिपाहियों पर भरोसा कर चुनावी रणभूमि में उतरेंगी। वसुंधरा की सुराज गौरव यात्रा में भरोसेमंद सिपाहियों की फौज देखने को मिल सकती है।

सीएम वसुंधराराजे की चार अगस्त से सुराज गौरव यात्रा शुरू होने जा रही है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, इस यात्रा को लेकर महत्वपूर्ण जिम्मेदारी वसुंधरा अपने भरोसेमंद अशोक परनामी को दे सकती हैं। पार्टी के जानकारों का कहना है कि वसुंधरा के करीबी होने के साथ ही परनामी प्रदेश की स्थितियों को अच्छे से समझते हैं। यही वजह है कि प्रदेश में घूमने वाली सीएम की चुनावी रथयात्रा के सारथी की भूमिका अशोक परनामी निभा सकते हैं।

रथयात्रा शुरू होने से लेकर की जाने वाली तैयारियों पर अशोक परनामी की नज़र बनी हुई है। चारभुजानाथ मंदिर के पास सभास्थल आदि का जायजा लेने गए मंत्रियों और पदाधिकारियों की टीम में अशोक परनामी भी प्रमुख रूप से शामिल थे।

नहीं हुई टीम की घोषणा

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष की कमान संभाले मदनलाल सैनी को करीब 25 दिन से अधिक हो गए, लेकिन अभी तक सैनी ने अपनी नई टीम की घोषणा नहीं की हैं। कहा जा रहा था कि पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के राजस्थान दौरे से पहले सैनी अपनी नई टीम की घोषणा कर देंगे, लेकिन उन्होंने अब तक अपनी टीम की घोषणा नहीं की है।

बता दें कि वसुंधराराजे फिर से मुख्यमंत्री बनने के लिए जनता के बीच उसी रथ से जाएंगी, जिस रथ पर सवार होकर उन्होंने 2013 में सुराज संकल्प यात्रा निकाली थी और सीएम बनी थी।

यह खबर भी पढ़े – वसुंधराराजे की सुराज यात्रा का रोडमैप तैयार…

यह खबर भी पढ़े – अशोक गहलोत ने दिलाई फिल्म ‘दीवार’ की याद…

यह खबर भी पढ़े – मोदी की तारीफ कर, थामा कांग्रेस का हाथ

Share.