कांग्रेस के पूर्व 4 मंत्री और 6 विधायक हुए बागी

0

राजस्थान विधानसभा चुनाव का शंखनाद हो गया है। भाजपा और कांग्रेस ने अपने प्रत्याशियों को मैदान में उतार दिया है। प्रत्याशियों के ऐलान के बाद दोनों ही दलों के कई नेता बागी हो गए, जिन्हें अब पार्टी मनाने की कवायद में लगी हुई है। कांग्रेस में 10 नेता बागी हुए हैं, जिनमें से 4 मंत्री भी रह चुके हैं। इन्हें मनाने की कोशिश शुरू हो गई है।

कांग्रेस के चार मंत्री बागी

खंडेला से महादेव खंडेला

खंडेला विधानसभा सीट से कांग्रेस ने पूर्व केंद्रीय मंत्री महादेवसिंह खंडेला का टिकट काट दिया। यहां से कांग्रेस ने सुभाष मील को टिकट दिया। महादेव अब निर्दलीय मैदान में उतर गए हैं।

दूदू से बाबूलाल नागर

दूदू से कांग्रेस पार्टी ने पूर्व मंत्री बाबूलाल नागर का टिकट काटकर युवा रितेश बैरवा को टिकट दिया, जिसके बाद दूदू विधानसभा के राजनीतिक समीकरण बदलते दिख रहे हैं। पूर्व मंत्री बाबूलाल नागर का कांग्रेस से बगावत का झंडा बुलंद करना पार्टी के लिए मुश्किल खड़ी कर रहा है।

अजमेर दक्षिण से ललित भाटी

अजमेर दक्षिण विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस नेता ललित भागी ने बागी के तौर पर नामांकन पत्र दाखिल कर दिया है। ललित भाटी के नामांकन भारने से कांग्रेस प्रत्याशी हेमंत भाटी के लिए मुश्किलें बढ़ जाएंगी।

मसूहा से ब्रह्मदेव कुमावत

मसूहा से सेवादल के प्रदेश अध्यक्ष राकेश पारीक को टिकट मिलने से नाराज़ पूर्व विधायक ब्रह्मदेव कुमावत ने निर्दलीय चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया है।

कांग्रेस के बागी विधायक

– तारानगर से पूर्व विधायक सीएम वैद्य

– सिरोही से संयम लोढ़ा

– किशनगढ़ से नाथूराम सिनोदिया

– केशोरायपाटन से सीएम प्रेमी

– पाली से भीमराज भाटी

– मसूदा से हाजी अब्दुल कय्यूम (अब राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी से प्रत्याशी बन गए हैं)

Share.