विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस: आओ प्रकृति की रक्षा का संकल्प लें

0

आज यानी 28 जुलाई को  ‘विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस’ है| इस दिन प्रकृति की रक्षा, उसके संरक्षण और विलुप्ति की कगार पर पहुंच रहे जीव-जंतु तथा वनस्पति की रक्षा का संकल्प लिया जाता है| आज पूरे विश्व में कई कार्यक्रमों के आयोजन होते हैं|

जल, जंगल और जमीन इनके बिना प्रकृति अधूरी है और मानव भी, लेकिन हम लगातार इनका दोहन करते जा रहे हैं| जल को व्यर्थ में बहा रहे हैं, जंगलों को तेज़ी से काट रहे हैं और जमीन पर कीटनाशक का उपयोग करके उसकी उर्वरक क्षमता को कमजोर कर रहे हैं| हम जितना प्रकृति का गलत उपयोग करेंगे, उतना जीव-जंतु इससे प्रभावित होंगे| हमें यह जानना बहुत ही ज़रूरी है कि यदि वन्य जीव भूमंडल पर न रहें तो पर्यावरण पर तथा मनुष्य के आर्थिक विकास पर क्या प्रभाव पड़ेगा?

विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस विशेष

लोगों को इस बात का ज्ञान होना चाहिए कि प्रकृति का संरक्षण ही हमारे और हमारी आने वाली पीढ़ी के सुनहरे भविष्य का आधार है| आज कई संगठनों द्वारा कई आयोजन करवाए जा रहे हैं, लोगों को जागरूक किया जा रहा है, लेकिन क्या प्रकृति के लिए सिर्फ एक दिन देना पर्याप्त है? क्या सिर्फ एक दिन के प्रयास से हम पर्यावरण को प्रदूषित होने से बचा सकते हैं?

हमें अपनी दिनचर्या में ऐसी गतिविधियों को भी शामिल करना चाहिए, जिससे प्रकृति का संरक्षण हो| हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि हमारी किन्हीं भी गतिविधियों से पर्यावरण को कोई नुकसान न हो| हम किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत एक पौधा रोपित कर या तोहफे में देकर कर सकते हैं| हमारे घर के आसपास या सड़क के किनारे जहां भी खाली जगह दिखे, वहां एक पौधा ज़रूर रोपित करें| विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस  एक संकल्प ले और प्रकृति के संरक्षण की आदत बच्चों को भी सिखाएं, इससे हमारी आने वाली पीढ़ी भी पर्यावरण को बचाने के लिए सहयोग करेगी|

Share.