पशुओं की जिंदगी जी रहे चाय मजदूर

0

असम के चाय बागान में मजदूरों के साथ जो अत्याचार हो रहा है, उसे कौन बंद करवाएगा ? जब पहली बार मैं असम के चाय बागान में गया और मजदूरों के साथ उठा-बैठा तो मुझे मालूम पड़ा कि उनकी हालत लगभग वही है, जो जानवरों की होती है। उनके कपड़े, उनका भोजन, उनके झोपड़े, उनकी सेहत और उनके बच्चों की शिक्षा के बारे में ज्यों-ज्यों पूछता हूं, मेरे रोंगटे खड़े होते जाते हैं। जिस चाय-बाग के मालिक के यहां मैं ठहरा था, जब मैंने उनसे बात की तो वे कहने लगे कि ये लोग खुशी-खुशी काम करते हैं। इनकी जरूरतें बहुत कम हैं। ये ज्यादा मजदूरी के लिए आग्रह भी नहीं करते, लेकिन वे क्या खाक आग्रह करेंगे ? चाय-मजदूरों के दो बड़े संगठन हैं, असम में। उनके दो-दो तीन-तीन लाख सदस्य हैं, लेकिन वे भी असहाय हैं, निरुपाय हैं।

आज भी असम के चाय-मजदूरों को दस घंटे रोज काम करने के बावजूद सिर्फ 137 रु. रोज मिलते हैं। यदि वे रोज चाय की 25 किलो पत्तियां तोड़कर जमा न कर सकें तो उनके ये 137 रु. भी खटाई में पड़ जाते हैं। इसमें से भी उनकी भविष्यनिधि के रूप में कटते हैं| जब पत्तियां कम टूटती हैं तो पैसे कम मिलते हैं और कभी वे बीमार पड़ जाते हैं तो अपने खर्च से उन्हें इलाज करवाना पड़ता है। इन बागान में अभी आठ लाख लोग काम करते हैं, जिनमें से 4 लाख 56 हजार महिलाएं हैं। सच्चाई तो यह है कि इन चाय मजदूरों को 100 रु. रोज भी नहीं मिलते जबकि चाय का कारोबार 5 हजार करोड़ रु. से भी ज्यादा का है। इस वर्ष देश में 132 करोड़ किलो चाय पैदा हुई। सिर्फ असम की चाय दुनिया की 22 प्रतिशत जरूरत पूरी करती है।

इन चाय बागान में उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश, प.बंगाल तथा अन्य प्रांतों से आए मजदूरों की कई पीढ़ियां यहीं खप जाती हैं। अपने मूल स्थान से उनका संपर्क लगभग टूट ही जाता है। उनके पास इतने पैसे ही नहीं होते कि वे अपने गांव आ-जा सकें। उनके बच्चे भी यहीं मजदूरी करने के लिए मजबूर होते हैं। उनके माता-पिता उन्हें पैसों के अभाव में पढ़ा-लिखा नहीं पाते। पढ़ाना तो दूर की बात है, उनके मनपसंद खाना भी नहीं खिला सकते। उनके छोटे-छोटे बच्चे खिलौनों को तरस जाते हैं। वे नंगे पांव ही घूमते रहते है, चड्डी-बनियान पहने हुए। वे अक्सर जहरीले जानवरों और सांपों के शिकार भी हो जाते हैं। चाय के बड़े-बड़े खेतों के पास बने उनके झोपड़े उनको सामान्य समाज से अलग-थलग जीवन जीने के लिए मजबूर कर देते हैं। पता नहीं क्यों, केंद्र और प्रांत की सरकारें सीधा हस्तक्षेप क्यों नहीं करतीं ? यदि उनकी मजदूरी दोगुनी भी कर दी जाए तो क्या होगा ?  चायवालों का मुनाफा थोड़ा-थोड़ा कम हो जाएगा, लेकिन करोड़ों लोगों को रोज सुबह-सुबह चाय का आनंद प्रदान करने वाले ये लाखों मजदूर सभ्य मनुष्यों का जीवन जी सकेंगे।

-डॉ. वेदप्रताप वैदिक

( लेखक वरिष्ठ पत्रकार और अंतरराष्ट्रीय मामलों के जानकार हैं)

Share.