इस राजा ने सूर्य नमस्कार को बनाया फेमस

0

आज दुनिया अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मना रही है| इस मौके पर सुबह से ही जगह-जगह कई कार्यक्रमों का आयोजन किया गया, लेकिन क्या आप जानते हैं कि आज उस व्यक्ति के जन्मदिवस की 150वीं वर्षगांठ है, जिसने सूर्य नमस्कार को सबसे अधिक लोकप्रिय बनाया|

दरअसल, पुणे के पास औंध में वर्ष 1868 में जन्मे भवानराव श्रीनिवासराव नामक राजा ने अपने अभ्यास से सूर्य नमस्कार को लोकप्रिय बनाया| राजा एक कलाकार, संस्कृत के विद्वान और पंचायती राज के समर्थक थे, लेकिन उनकी सबसे अधिक रुचि सूर्य नमस्कार को लोकप्रिय बनाने में थी| इस बात की जानकारी भवानराव के बेटे अपा पंत ने अपने पिता की जीवनी ‘एन अनयुज़ुअल राजा’ में दी है|

अपा पंत ने लिखा है कि भवानराव को कुश्ती और मलखंभ बहुत पसंद था| उन्हें सबसे अधिक लोकप्रियता सूर्य नमस्कार से मिली थी| वे सूर्य की आराधना के लिए इन व्यायामों का नियमित अभ्यास करते थे| वर्ष 1923 में उन्होंने सूर्य नमस्कार पर मराठी में एक किताब लिखी, जिसका बाद में उन्होंने अंग्रेजी में अनुवाद करवाया| भवानराव ने 1927 में अंग्रेजी के एक सबसे लोकप्रिय अखबार में सूर्य नमस्कार के लाभ के बारे में लिखा था, “नमस्कारों के इस व्यायाम की बड़ी विशेषता और महत्व यह है कि इसे किसी भी समय, सभी मौसमों और जीवन के सभी चरणों में सभी पुरुष और महिलाएं कर सकते हैं|”

Share.