website counter widget

Good Friday 2019 : वे अपनी कब्र के पास जीवित दिखे थे, जानें

0

आज गुड फ्राइडे (Good Friday 2019) है| आज आज के ही दिन ईसा मसीह ( Jesus Christ ) को सूली पर चढ़ाया गया था प्रभु यीशु के बलिदान दिवस ‘गुड फ्राइडे’ पर गिरजाघरों में उनके संदेशों का स्मरण करवाया जाएगा। ईसाई समाजजन प्रभु यीशु द्वारा भोगी गई यातनाओं को याद कर प्रार्थना करेंगे। उनका मानना है कि प्रभु यीशु ने मनुष्य जाति के कल्याण के लिए अपना बलिदान दिया है। आज ही के दिन प्रभु यीशु मसीह के अंतिम शब्दों के बारे में बताया जाता है, जो क्षमा, सहायता और त्याग का उपदेश देती है। 

न करें यह छोटी-छोटी गलतियां, वरना परिणाम होगा बहुत बुरा

Image result for गुड फ्राइडे

बाइबिल के अनुसार, ईसा मसीह सन 29 ई. को येरुशलम आ गए थे और वहां उन्होंने योहन्ना (जॉन) से दीक्षा ली। जिस दिन ईसा मसीह ने यरुशलम में प्रवेश किया था, उस दिन रविवार था और सभी उस दिन को पाम संडे के रूप में मनाते हैं। उनकी धार्मिक और लोगों को जागरूक किए जाने की बातें वहां के राजा को पसंद नहीं आई| वह नागरिकों को सदैव अपना गुलाम बनाकर रखना चाहता था| इस पर यरुशलम में उनके खिलाफ षड्यंत्र रचा जाने लगा| उन्हें धर्मपथ से डिगाने के लिए तरह-तरह की यातनाएं दी जाने लगी| जब वे नहीं माने तो विरोधियों ने उन्हें पकड़कर उन्हें सूली पर चढ़ा दिया। जिस समय ईसा मसीह को सूली पर चढ़ाया गया था, उस समय उनकी उम्र महज 33 साल थी।

वास्तु के छोटे-छोटे उपाय अपनाएं, परेशानियों से बचें

Related image

यह बात तो सभी लोग जानते हैं कि ईसा मसीह को सूली पर चढ़ा दिया गया था, लेकिन उन्हें दफनाया कहां गया था, इस बारे में शायद बहुत कम लोग जानते हैं। आइए हम आपको इस बारे में बताते हैं|ईसाईयों के लिए यरुशलम तीर्थ है| वे यहां ईसामसीह की आज भी उपस्थिति मानते हैं| यरुशलम में ईसा मसीह को सूली पर चढ़ाने के बाद उनके मृत शरीर को यहीं पर स्थित एक गुफा में रख दिया गया था और फिर बाहर से गुफा को पत्थर से ढँक दिया गया था। शुक्रवार के दिन ईसा मसीह को सूली पर चढ़ाया गया था| इस दिन को उनका बलिदान दिवस मानकर गुड फ्राइडे के रूप में मनाया जाता है| कहा जाता है कि जिस दिन ईसा मसीह को सूली पर चढ़ाया गया था, उसके दो दिन बाद यानी रविवार को उन्हें अपनी ही कब्र के पास घूमते हुए देखा गया था । दरअसल, मेरी मेग्दलेन ने उन्हें उनकी कब्र के पास जीवित देखा था । जीवित देखे जाने की इस घटना को ‘ईस्टर सन्डे’ के रूप में मनाया जाता है।

येरुशलम में इस ख़ास जगह दफनाया गया था ईसा मसीह का शरीर, अपनी ही कब्र के पास चलते हुए देखे गए थे

उल्लेखनीय है कि यरुशलम के प्राचीन शहर की दीवारों से सटा एक प्राचीन पवित्र चर्च ( Church) है, जिसके बारे में कहा जाता है कि यहीं ईसा मसीह फिर से जिंदा हुए थे। इस चर्च का नाम ‘चर्च ऑफ द होली स्कल्प्चर’ है । कहा जाता है कि इस चर्च में वह चट्टान है, जिस पर 33वीं में ईसा मसीह को दफनाने के लिए रखा गया था।

Hanuman Jayanti 2019 :बेरोजगारों को रोजगार देंगे यह 2 उपाय, जरूर करें

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
Loading...
Share.