इस तरह बचें ऑनलाइन फ्रॉड से

0

आज की डिजिटल दुनिया लगभग हर व्यक्ति क्रेडिट और डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करता है। जैसे-जैसे क्रेडिट और डेबिट कार्ड का चलन तेजी से बढ़ रहा है, वैसे ही ऑनलाइन धोखाधड़ी भी बढ़ती जा रही है। आए दिन ऑनलाइन फ्रॉड के बारे में कोई न कोई खबर सामने आ ही जाती है। लोगों के दिलों में भी सवाल हैं कि आखिर किस तरह ऑनलाइन फ्रॉड से बचा जा सकता है, और किस तरह अपने डेबिट और क्रेडिट कार्ड को सुरक्षित रखा जा सकता है। आज हम आपको कुछ टिप्स दे रहे हैं जो रिजर्व बैंक द्वारा उपलब्ध कराई गई है, और इन्हे अपना कर आप भी अपने कार्ड्स को सुरक्षित रख सकते हैं।

स्पूफिंग – स्पूफिंग करने का मतलब होता है कि, ठग किसी तरह से आपके कार्ड की सभी जानकारी जैसे, कार्ड नंबर, सीवीवी और एक्सपायरी डेट आदि का पता लगा लेते हैं। फिर वे आपको कॉल करते हैं और बैंक कर्मचारी बन आपसे ओटीपी मांग लेते हैं। ओटीपी हासिल होते ही वे आपके खाते से पैसे गायब कर देते हैं।

स्कीमिंग – कई जालसाज ठगी के लिए स्कीमिंग का इस्तेमाल करते हैं। स्कीमर एक ऐसी डिवाइस होती है जिसमे आपका कार्ड स्वाइप करने पर उसकी सारी जानकारी हासिल की जा सकती है। स्कीमर को एटीएम मशीन में भी फिट किया जा सकता है। फिर आपके पासवर्ड को भी सीसीटीवी की सहायता रिकार्ड कर उसका गलत इस्तेमाल किया जा सकता है।

क्लोनिंग – इसका मतलब है आपके कार्ड की हूबहू नक़ल तैयार करना। इसके बाद जालसाज स्कीमिंग के जरिए आपके कार्ड की जानकारी भी, डुप्लीकेट कार्ड में ट्रांसफर कर उसका गलत इस्तेमाल करते हैं।

बचने के लिए सावधानियां

जब भी आप ऑनलाइन पेमेंट करें तो यह अवश्य सुनिश्चित करें कि, वेबसाइट की लिंक  https:// के साथ शुरू होती हो। सिर्फ  http:// वाली लिंक सुरक्षित नहीं होती। इसके अलावा लिंक की शुरुआत हरे रंग का लॉक का निशान भी होना जरूरी है।

इसके अलावा आप अपने बैंक का कस्टमर केयर नंबर हमेशा साथ में रखें। इसके अलावा आप अपना अकाउंट नंबर, कस्टमर आईडी नंबर, कार्ड का नंबर, उसकी एक्सपायरी डेट जैसी महत्वपूर्ण जानकारी कहीं नोट कर अपने पास रखें।

आप अपने एटीएम कार्ड का इस्तेमाल करें या न करें, लेकिन हर तीन माह में अपने कार्ड का पासवर्ड जरूर बदलें। सबसे जरूरी बात यह है कि आप अपना पासवर्ड कभी भी किसी कागज, कार्ड या फिर मोबाइल में सेव न करें।

इसके अलावा आप अपना खाता और क्रेडिट कार्ड का स्टेटमेंट हमेशा जांचते रहें।

जब भी आप अपने एटीएम कार्ड का इस्तेमाल करें तो पिन डालते समय ऊपर हाथ रख लें, ताकि आपके पिन को कोई देख न सके।

जब भी आप अपना एटीएम कार्ड स्वाइप करें, तो कार्ड स्वाइप करने से पहले उस जगह को थोड़ा खींचें। अगर किसी के द्वारा स्कीमर लगाया हुआ होगा तो वह निकलकर हाथ में आ जाएगा।

सभी सावधानियों के बाद भी अगर आप किसी तरह की धोखाधड़ी का शिकार हो जाते हैं तो तुरंत ही बैंक से संपर्क करें। भारतीय रिजर्व बैंक के अनुसार, धोखाधड़ी होने के 3 दिन के अंदर इसकी शिकायत संबंधित बैंक ब्रांच और कस्टमर केयर पर कर देनी चाहिए। इसके बाद इसकी पूरी जिम्मेदारी और जवाबदेही संबंधित बैंक की होगी। अगर एक महीने तक आपको कोई समाधान नहीं मिलता है तो आप इसकी शिकायत बैंकिंग लोकपाल से करें।

(प्रभात)

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.