ऐसे भिखारी जिनकी असलियत जानकार आप दंग रह जाएंगे

0

(Fake Beggar Business) आप ये तो जानते ही होंगे की भारत जनसँख्या के मामले में दुनिया में दूसरे स्थान पर है जब आप घरों से बाहर निकलते है तो सड़के गली चौराहे लोगो से खचाखच भरे रहते है इसके अलावा यातायात के साधन जैसे बस ट्रेनों आदि में भी भारी संख्या में लोग यात्रा करते है लेकिन क्या आप जानते है इस भीड़ के बीच में हर जगह आपको कुछ लोग ऐसे मिल जाएंगे जिन्हे भारत में भिखारी कहा जाता है जी हां चाहे चौराहा हो, मंदिर हो, मस्जिद हो, ट्रेन हो, या रेलवे स्टेशन हो, हर जगह ये मिल जाएंगे कही कोई अपाहिज दिखेगा, तो.कोई मैले कपडे में, तो कही कोई बच्चे को लेकर भीख मांगते हुए औरत दिखेगी जब हम इन जगहों से गुजरते है तो जरूर किसी न किसी भिखारी को कुछ रूपये दे ही देते है। क्योकि उनकी हालत चेहरों को देखकर तरस आ ही जाता है। लेकिन क्या आप जानते है इनमे से बहुत से भिखारी ऐसे होते है जो नकली होते है और देखने में बिलकुल असली लगते है। इनकी कला ऐसी होती है की इनके आगे कोई अभिनेता भी मात खा जाए

Fake Beggar Business

रेलवे स्टेशन पर अब नहीं दिखेंगे भिखारी

आपको बता दें की एक जानकारी के अनुसार पिछली साल की सरकारी रिपोर्ट के अनुसार भारत में लगभग 4 लाख भिखारी है (Fake Beggar Business) जिनमे से लगभग 80 हज़ार तो अच्छे खासे पढ़े लिखे है। लेकिन ये तो महज दस्तावेजों में दर्ज आकड़े है। असल में तो इनकी संख्या इससे कई गुना ज्यादा है आपको बता दे की भारत में एक से बढ़कर एक पढ़े लिखे भीख मांगते हुए दिख जाएंगे जिनसे अगर इंग्लिश में बात करेंगे तो बाकायदा इंग्लिश में जवाब भी देते है. भीख मांगना एक मजबूरी है उनके लिए जो अपाहिज है, दिमागी रूप से विकृत है, लेकिन लोगों ने इसे व्यवसाय बना लिया है। इसके लिए बड़े-बड़े माफिया है जो बच्चों को चोरीकर उनसे भीख मंगवाते है, कुछ कामचोर गंदे कपडे पहनकर फेक विकलांग बनकर भीख मांगते है।

Lok Sabha Election 2019 से पहले Twitter  पर #WhyTheyHateModi

(Fake Beggar Business) भारत (India) में एक बात बड़ी अच्छी है धर्म भले ही कोई हो, सभी में दान को सबसे बड़ा पुण्य बताया गया है। दीन-हीन और अपंगों की मदद को हर आदमी आगे रहता है। लेकिन अफसोस, अब भिखारियों में गरीब और जरूरतमंद कम, पेशेवरों की संख्या सबसे अधिक दिख रही है। चौराहों पर बैठे कुष्ठ रोगी, नेत्रहीन (blind), अपाहिज और वृद्ध अब नजर नहीं आ रहे। इनके स्थान पर पेशेवर ही भिक्षावृत्ति में सक्रिय हैं। जो लोग पेशेवरों से अंजान हैं, वे इनके झांसे में आसानी से आ जाते हैं, मगर जो लोग इन्हें रोज देखते हैं वे इन्हें तवज्जों नहीं देते। इसलिए ये लोग सार्वजनिक स्थानों पर ही अधिक भीख मांगते हैं।

चलिए आपको बताते है कैसे-कैसे वेशभूषा में आपको ये नकली भिखारी मिल जाएंगे

– मैली धोती और गोद में बीमार व भूखे बच्चे को लेकर भीख मांगती महिला।

-भूख की आड़ में भीख मांगते चिथड़ों में लिपटे बालक।

-पंफलेट बांटकर बूढ़े मां-बाप के इलाज को पैसे मांगती जवान लड़की।

-टांग व शरीर के अन्य हिस्से में नकली जख्म बनाकर भीख मांगने वाले।

-बच्चे को बीमारी से बचाने के लिए मांगे कपड़े पहनाने वाले भिखारी।

-तीन या चार जवान लड़कियों की शादी के लिए बसों व ट्रेनों में भीख मांगती महिला।

-गैर राज्यों की वेश में टिकट के लिए पैसे मांगता परिवार।

-तीर्थ स्थलों पर जाने के लिए भीख मांगते साधु वेशधारी।

45 साल के फरहान अख्‍तर ने जबरदस्‍त बॉडी से मचाया ‘तूफान’ देखिए First Look

-Mradul tripathi

Share.