#International Literacy Day : भारत की कम साक्षरता के कारण जानिए

0

कहते हैं कि अशिक्षा आधी से अधिक समस्याओं की जड़ होती है| शिक्षा की कमी देश की प्रगति में रुकावट है| 1966 में यूनेस्को ने विश्व साक्षरता दिवस मनाने की शुरुआत की| आज पूरे विश्व में साक्षरता दिवस मनाया जा रहा है| साक्षरता की दर बढ़ाने, लोगों को शिक्षा के प्रति जागरूक करने और उन्हें शिक्षा का महत्व बताने के लिए ही इस दिन की शुरुआत की गई| प्रतिवर्ष 8 सितंबर को अंतरराष्ट्रीय साक्षरता दिवस के रूप में मनाया जाता है|

भारत में ‘सर्व शिक्षा अभियान’ और ‘सब पढ़ो, सब बढ़ो’ अभियान भी इसी के मद्देनजर शुरू किया गया| हमारे देश में 6-14 साल के आयु वर्ग के प्रत्येक बालक और बालिका को स्कूल में मुफ़्त शिक्षा का अधिकार है, लेकिन फिर भी कई बच्चे स्कूल का मुंह ही नहीं देख पाते हैं या फिर छोटी कक्षाओं में ही स्कूल त्याग देते हैं| भारत में संसार की सबसे अधिक अनपढ़ जनसंख्या निवास करती है|
भारत में वर्ष 1947 में शिक्षा दर मात्र 18 प्रतिशत थी, जो वर्ष 2011 में 75.06 प्रतिशत हो गई| वहीं यदि विश्व स्तर की बात की जाए तो भारत की साक्षरता दर विश्व की साक्षरता दर 84 प्रतिशत  से कम है| वर्तमान में भारत की साक्षरता दर 74 प्रतिशत है| भारत में साक्षरता के मामले में पुरुष और महिलाओं में काफ़ी अंतर है| जहां पुरुषों की साक्षरता दर 82.14 है वहीं महिलाओं में इसका प्रतिशत केवल 65.46 है|

महिलाओं में कम साक्षरता का कारण अधिक आबादी और परिवार नियोजन की जानकारी की कमी है| विश्व के कुछ प्रमुख देशों जैसे अमरीका और ब्रिटेन की साक्षरता दर 99 प्रतिशत, ऑस्ट्रेलिया की 96 प्रतिशत, ऑस्ट्रिया की 98 प्रतिशत, ब्राजील की 91.3 प्रतिशत, कनाडा की 99 प्रतिशत, चीन की 95.1 प्रतिशत, जर्मनी की 99 प्रतिशत, इंडोनेशिया की 93.8 प्रतिशत और इज़राइल की 97 प्रतिशत है|

कम साक्षरता दर के लिए कारण

भारत में कम साक्षरता के कई कारण हैं| यहां अभी भी कई ऐसी जगह हैं, जहां लड़कियों की पढ़ाई बीच में ही छुड़वा दी जाती है और उनकी शादी करवा दी जाती है| ऐसे ही कई बच्चे पारिवारिक स्थिति के कारण पढ़ाई छोड़ देते हैं|

भारत में लगभग 6 लाख स्कूल के कमरों की कमी है| कई स्कूलों में शौचालय भी नहीं है| अधिक जनसंख्या और जागरूकता की कमी कम साक्षरता की दर का सबसे बड़ा कारण है| लड़कियों के साथ बढ़ रहे अपराधों की वजह से अभिभावकों के मन में भय भी शिक्षा के बीच आड़े आ जाता है|

विश्व साक्षरता दिवस पर इन्होंने दी शुभकामनाएं 

Share.