B’day : आज भी बड़ा है उदित नारायण का नाम

1

उदित नारायण  की दिलकश आवाज़ में जादू ही कुछ ऐसा था कि आज भी युवा उनके गानों को गुनगुनाते हैं| ‘पापा कहते हैं’, ‘ओ..मितवा’, ‘बोले चूड़ियां’, ‘चांद छुपा बादल में’ जैसे कई यादगार गानों को उन्होंने अपनी आवाज़ से सजाया है| उनके गाने ‘पापा कहते हैं बड़ा नाम करेगा..’ के बिना हर कॉलेज फंक्शन अधूरा लगता है| आवाज़ के इस जादूगर का आज यानी 1 दिसम्बर को जन्मदिन है| आज हम आपको उनके बारे में कुछ ख़ास जानकारी बताने वाले हैं, जो शायद ही आप जानते होंगे|

उदित नारायण का शुरूआती जीवन

उदित नारायण का जन्म 1 दिसंबर, 1955 को नेपाल के सपतारी जिले में हुआ था| उनका पूरा नाम उदित नारायण झा है| उनके पिता का नाम हरे किशन झा और मां का नाम भुवनेश्वरी झा था| उदित नारायण ने नेपाल के पीबी स्कूल से अपनी शुरुआती पढ़ाई की| इसके बाद उन्होंने रेडियो नेपाल में मैथिली और नेपाली लोक गाने गाकर अपने करियर की शुरूआत की थी| उन्होंने करीब 8 वर्ष तक लोक संगीत का कार्यक्रम किया| उदित नारायण ने नेपाली फिल्म ‘सिंदूर’ में अपने करियर का पहला गाना गाया था| हिन्दी के अलावा वे उर्दू, तमिल, बंगला,  गुजराती, मराठी, तेलुगु, मलयालम, कन्नड़, उडि़या और नेपाली फिल्मों में अपनी आवाज़ का जादू बिखेर चुके हैं|

पहला ब्रेक रफी के साथ

उदित की प्रतिभा को पहचानते हुए राजेश रोशन ने उन्हें पहला ब्रेक अपनी फिल्म ‘उन्नीस बीस’ में दिया, लेकिन यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर हिट नहीं हुई| सबसे बड़ी बात कि उन्हें इस फिल्म में मोहम्मद रफ़ी के साथ गाने का मौका मिला था| वर्ष 1978 में वे मुंबई आ गए| यहां आने के 2 वर्ष बाद उदित को पहली बार किसी फिल्म में गाने का मौका मिला| इसके बाद उन्होंने फिल्म ‘कयामत से कयामत तक’ के गाने गाए, जिससे उन्हें फिल्म जगत में एक अलग पहचान मिली| इस फिल्म का गाना ‘पापा कहते हैं बड़ा नाम करेगा’ आज भी कहीं न कहीं बजता हुआ सुनाई दे जाता है| इस गाने के लिए उन्हें पहली बार बेस्ट मेल सिंगर का फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला| उन्हें फिल्मफेयर बेस्ट सिंगर के 5 अवॉर्ड भी मिले हैं|

फिल्मफेयर के अलावा उन्हें पद्मश्री और नेशनल अवॉर्ड से भी नवाज़ा जा चुका है| उदित नारायण को वर्ष 2009 में भारत सरकार द्वारा पद्मश्री अवॉर्ड से नवाजा गया था| उन्हें तीन बार बेस्ट सिंगर का नेशनल अवॉर्ड भी मिल चुका है|

शादीशुदा होते हुए भी की दूसरी शादी

उदित ने अपने जीवन में दो बार शादियां की| उनकी पहली शादी रंजना झा से हुई, इसके बाद वे दीपा गहतराज के संग शादी के बंधन में बंध गए| दीपा खुद एक सिंगर हैं| आदित्य नारायण उन्हीं के बेटे हैं| उदित का नाम उस समय विवादों में फंसा, जब उनकी पहली पत्नी ने उन पर धोखाधड़ी और बिना तलाक दिए दूसरी शादी करने का आरोप लगाया था| पहले तो उदित ने इस बात को नकार दिया, लेकिन जब रंजना कोर्ट पहुंची तब उदित ने इस बात को स्वीकारा| इसके बाद कोर्ट ने उन्हें दोनों बीवियों को साथ रखने का आदेश दिया था|

जानें क्यों मनाया जाता है विश्व एड्स दिवस

जेआरडी टाटा : भारतीय नागरिक उड्डयन के जनक

Birthday : आज भी ‘मधुशाला’ नशीली है !

Share.