website counter widget

कानून का मज़ाक: दुष्कर्मी राम-रहीम के आचरण का मुरीद जेल प्रशासन

0

एक साधु, कलयुगी साधु के अच्छे आचरण से मुरीद हुए जेलर को उन्हें parole दिए जाने पर कोई आपत्ति नहीं है बढ़िया है| यहाँ आचरण शब्द के मायने समझने से पहले ज्ञात होवे की साध्वियों से दुष्कर्म के मामले में रोहतक की सुनारिया जेल में 23 महीने से सजा काट रहे राम रहीम (Gurmeet Ram Rahim Singh Parole) की बात हो रही है|

अडवांस्ड टाईप के साधु गुरमीत सिंह डेरा सच्चा सौदा की आड़ में फिल्म निर्माण, एलबम निर्माण, खेतीबाड़ी और न जाने क्या-क्या करते रहे है| सीबीआई कोर्ट ने 25 जुलाई 2017 को दो साध्वियों के साथ दुष्कर्म के दोषी राम रहीम को 28 अगस्त 2017 को दोनों मामलों में 10-10 साल की कैद और 15-15 लाख रुपये जुर्माने की सजा दी| इसके अलावा भी एक सांध्य दैनिक के संपादक रामचंद्र छत्रपति की हत्या मामले में भी सीबीआई कोर्ट ने गुरमीत सिंह को दोषी पाया |

कश्मीर पर ऐतिहासिक पहल का मौका

अब एक साधु जो सीबीआई कोर्ट से तमाम तरह के अपराधों की सिद्धि के बाद जेल काट रहा है, उसका आचरण जेलर और जेल प्रशासन को किस नजरिए से भा गया पता नहीं? सियासत भी खुलकर न सही, लेकिन मदद पर आमादा जरूर है| भारत का कानून ही ऐसा है | एक कोर्ट सजा देती है, एक निर्दोष करार देती है | और जमानत तो दें ही देती है | यह बात कानून से खिलवाड़ करने वाले राम रहीम जैसे लोग बखूबी जानते है| कानून का मज़ाक बनाये जाने का यह पहला मामला नहीं है, लेकिन दुष्कर्मी को पैरोल (Gurmeet Ram Rahim Singh Parole) और वो भी जो कभी एक साधु के वेश में था ?

प्लास्टिक सारी मनुष्यता का सबसे बड़ा दुश्मन

क्या जेल प्रशासन की तर्क शक्ति इतनी कमजोर है? नहीं ! आज के युग में कोई इतना नादान नहीं हो सकता ? जिसे राम रहीम (Gurmeet Ram Rahim Singh Parole) के अपराध की संगीनता और उसके सुधरे आचरण में फर्क नजर न आए और वो भी भारतीय जेल का जेलर जिसने जीवन अपराधियों के बीच जीवन गुजारा हो | फिर आँखों पर यह कैसा पर्दा है, जो एक बलात्कारी की ज़मानत का विरोध करने की बजाय उसकी सिफारिश करने पर मजबूर कर रहा है| सवाल है और उंगलियां भी उठ रही है कि जब आम आदमी को सही और गलत साफ-साफ दिखता है तो जिम्मेदारों को क्यों नहीं? कारण क्या है इस ज़मानत कि वकालत के पीछे? संभवतः दो ही कारण है ….इशारों को अगर समझो ……

ट्रंप का हास्यास्पद दावा

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.