पूर्णकालिक ग्रहण भी करना होगा खत्म

0

जम्मू-कश्मीर में पिछले चार वर्षों से जो कुछ चल रहा था, वह सबकुछ असहनीय था, लेकिन हम सह रहे थे| हमारी सेना दुश्मनों के खिलाफ़ कुछ कार्रवाई करने जाती तो महबूबा मुफ़्ती उनकी ढाल बनकर खड़ी हो जाती थी| अन्तोगत्वा भाजपा के समर्थन वापस लेने के बाद काश्मीर से यह ग्रहण समाप्त हुआ| भाजपा का यह निर्णय नि:संदेह जनता को खूब भाया है, लेकिन जम्मू-कश्मीर में यह आंशिक ग्रहण समाप्त करने के साथ ही  जो ग्रहण पिछले 70 वर्षों से लगा है ,उसे समाप्त करने की जिम्मेदारी भी हमारी ही बनती है|

यूं तो आज़ादी के बाद से ही जम्मू-कश्मीर में आतंकी एवं देश विरोधी गतिविधियां हो रही हैं, परंतु आंकड़ों की माने तो मोदी सरकार के कार्यकाल में इनकी संख्या अत्यधिक बढ़ गई है|  अभी तक पत्थरबाजों एवं आतंकवादियों के ख़िलाफ़  कार्रवाई करने में मुफ़्ती रोड़ा बन रही थीं, परंतु अब वह समस्या भी हल हो गई है|  ऐसे में भारत के पास एक अवसर है कोई बड़ा निर्णय लेने का |  भारत सरकार चाहे तो उन पत्थरबाजों के खिलाफ कार्रवाई कर सकती है, जिन्होंने हमारे सैनिकों के गालों पर थप्पड़ मार दिए थे, घाटी में पाकिस्तान के झंडे फहरा दिए थे| यदि अब भी हमारे ही कुछ लोग मानवाधिकारों का हवाला देते रहेंगे तो फिर चाहे ऐसे सैकड़ों अवसर आ जाए, हम कुछ नहीं कर पाएंगे| हमारे देश की रक्षा करने वाले सैनिक दो कौड़ी के पत्थरबाज़ों के थप्पड़ और पत्थर खाते रहेंगे|

यह समय देश के प्रति निष्ठावान तथा देश के दुश्मनों के प्रति निष्ठुर होने का है| यह समय भारत के बेटों के निरंतर बह रहे खून पर विराम लगाने का ,यह वक्त है  भारत में खंडित मुकुट को भारत मां के भाल पर पुनः स्थापित करने का| साथ ही सरकार के पास एक मौक़ा है कि जनता ने जो उम्मीद मोदी जी से लगा रखी है, वह पूरी हो सके| देश की अवाम मोदी सरकार से न जाने कितनी उम्मीदें लगाए बैठी है| धारा 370 हो या फिर काश्मीर का मामला| अधिकतर लोग यही सोचते हैं कि मोदी सरकार इन समस्याओं का हल निकालने में समर्थ है| अब मोदी सरकार को चाहिए कि वे जनता की उम्मीदों पर खरा उतरने की कोशिश करें| और किसी बहाने से नहीं तो चुनावी बहाने से ही कड़ा निर्णय ले लें क्योंकि अगले वर्ष लोकसभा चुनाव भी होने हैं और यदि अब तुरंत मोदी सरकार जम्मू-कश्मीर में मोदी सरकार कोई कड़ा निर्णय लेती है तो भाजपा का समर्थन वापस लेना वाकई सार्थक होगा और इसका सीधा असर आगामी चुनाव में देखा जा सकेगा|

                                                                                           – बलराम यादव ‘बल्लू’

Share.