website counter widget

image1

image2

image3

image4

image5

image6

image7

image8

image9

image10

image11

image12

image13

image14

image15

image16

image17

image18

अज़हर पर चीन का रवैया

0

पाकिस्तान के आतंकवादी मसूद अज़हर को संयुक्त राष्ट्र संघ अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करवाने में चौथी बार फिर असफल हो गया। क्यों हो गया क्योंकि यह घोषणा सर्वसम्मति से ही हो सकती है। चीन ने चौथी बार अपना वीटो लगा दिया।

चीन के इस कदम पर भारत सरकार की प्रतिक्रिया देखने लायक है। उसने चीन की भर्त्सना करने के बजाय उसके इस कदम पर अपनी ‘निराशा’ जाहिर की है। उसने चीन का नाम तक अपने बयान में नहीं लिया है। उसने फ्रांस, अमरीका और ब्रिटेन सहित उन अन्य राष्ट्रों का एहसान माना है, जो अज़हर संबंधी प्रस्ताव संयुक्त राष्ट्र संघ की आतंकवाद विरोधी कमेटी में लाए थे।

भारत सरकार मानती है कि अज़हर के मामले को लेकर चीन से तलवारें लड़ाने में भारत का कोई फायदा नहीं है। हमारे टीवी चैनल लोगों को उकसा रहे हैं कि वे चीनी माल का बहिष्कार करें। कांग्रेसी नेता लोग नरेंद्र मोदी का मजाक बना रहे हैं और कह रहे हैं कि मोदी ने अहमदाबाद में चीन के राष्ट्रपति शी को झूला झुलाया था, अब शी संयुक्त राष्ट्र में मोदी को झूला झुला रहे हैं। वे पूछ रहे हैं कि ‘बुहान भावना’ कहां हवा हो गई ? वे मोदी की विदेश नीति को शीर्षासन की मुद्रा में दिखा रहे हैं। उन्होंने अज़हर के मामले को चुनाव का मुद्दा बना दिया है। भाजपा के प्रवक्ता भी कम नहीं है। उन्होंने कांग्रेस पर कसकर पलटवार किया है। वे पूछ रहे हैं कि अजहर का मामला संयुक्त राष्ट्र संघ में पिछले 10 साल से उठ रहा है, तब कांग्रेस सरकार क्या कर रही थी?  कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी चीनी राजनयिकों और नेताओं के साथ गलबहियां क्यों डाल रहे थे ?

दोनों दलों के लोग एक-दूसरे पर प्रहार इस तरह कर रहे हैं मानो वे खुद ही मसूद अज़हर हों। यह हमारी राजनीति का दिवालियापन है। हमारे लोग इस मामले के उस पक्ष पर गौर नहीं कर रहे हैं कि पाकिस्तान आधारित आतंकवाद के खिलाफ दुनिया के प्रमुख देशों का कितना तगड़ा समर्थन हमें मिल रहा है। यहां तक कि पाकिस्तान की सरकार चाहे दिखाने के लिए ही सही, आतंकवादी संगठनों के विरुद्ध सक्रिय हो गई है। यहां हमें यह भी सोचना चाहिए कि किसी व्यक्ति या संगठन को यदि संयुक्त राष्ट्र संघ अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित भी कर दे तो उससे भी फर्क क्या पड़ता है ? वे नाम बदलकर फिर सक्रिय हो जाते हैं।

पाकिस्तान और अरब देशों में यही हुआ है। जहां तक चीन का सवाल है, वह हमारे खातिर अपने राष्ट्रीय स्वार्थों की कुर्बानी क्यों करेगा ? उसके अरबों रुपए पाकिस्तान में लग रहे हैं। उसे ‘रेशम महापथ’ बनाना है ताकि वह थलमार्ग से यूरोप तक पहुंच सके। यदि हम चीन के स्वार्थों को पाकिस्तान से अधिक सिद्ध करने लगें या उसे जबर्दस्त नुकसान पहुंचाने लगें, तभी वह हमारी क़द्र करेगा। मोदी को अंतरराष्ट्रीय राजनीति का यह शाश्वत सत्य समझ में आ जाए तो किसी भी देश के नौटंकीभरे स्वागत-सत्कारों और चटपटी घोषणाओं पर फिसलना बंद हो जाएगा।

-डॉ.वेदप्रताप वैदिक

(लेखक वरिष्ठ पत्रकार और अंतरराष्ट्रीय मामलों के जानकार हैं)

भाजपा को बचाएगी कांग्रेस

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.