website counter widget

यह तौर-तरीका हम भारतीयों के स्वभाव का हिस्सा बन जाए

0

सांप्रदायिक सद्भाव की अदभुत मिसाल कल दिल्ली में देखने को मिली। ऐसा परस्पर व्यवहार सभी मज़हबों और संप्रदायों के लोग आपस में करें तो भारत ही नहीं, सारे दक्षिण एशिया में एक नई सुबह का उदय हो जाए।

यह किस्सा है पुरानी दिल्ली के हौज काजी इलाके का। इसके नाम से ही आप समझ गए होंगे कि यह मुसलमानों की बहुतायत वाला मोहल्ला है। यहां दुर्गामाता का एक मंदिर है। उसकी मूर्तियों को 30 जून को कुछ लोगों ने तोड़ दिया था। ऐसा होने पर अक्सर दंगा हो जाता है। कई लोग हताहत हो जाते हैं। आपस में बैर बंध जाता है। नेता लोग अपनी राजनीतिक शतरंज बिछाकर तरह-तरह के दांव मारने लगते हैं, लेकिन हौजकाजी के हिंदू और मुसलमान बाशिंदों ने कमाल कर दिया।

वहां के नेताओं ने अपनी राजनीति को शीर्षासन करवा दिया। उन्होंने आपस में कटुता फैलाने और खून बहाने के बजाय प्रेम और सद्भाव की सरिता बहा दी। विश्व हिंदू परिषद तथा अन्य हिंदू संस्थाओं ने मूर्तियों की दोबारा प्राण-प्रतिष्ठा की और एक विशाल जुलूस निकाला। इसके आयोजन में विजय गोयल, श्याम जाजू और पूनम महाजन ने विशेष भूमिका निभाई। ये तीनों भाजपा के प्रतिष्ठित नेता हैं। भाजपा को कट्टर हिंदुत्ववादी, सांप्रदायिक और संकीर्ण कहा जाता हैम लेकिन देखिए कि वहां कैसा अजूबा हुआ।

दरअसल, दस हज़ार हिंदुओं के उस जुलूस को उस मोहल्ले के मुसलमानों ने खाना खिलाया और उनकी मेहमाननवाज़ी की। मुसलमानों के हाथ का खाना खाते हुए हिंदुओं के जो फोटो छपे हैं, उन्हें देखकर कौन हर्षित नहीं होगा। यही सच्चा ‘हिंदुत्व’ है और यही सच्चा ‘भारतीय इस्लाम’ है। यह अजूबा तो शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो गया, लेकिन इसके कारण सारा दिल्ली प्रशासन बेहद मुस्तैद था। यह कार्यक्रम ठीक से संपन्न हो जाए, इसलिए 2000 से भी ज्यादा पुलिस और अर्ध-सैनिक जवान तैनात किए गए थे। यदि यह तौर-तरीका हम भारतीयों के स्वभाव का हिस्सा बन जाए याने हम सभी के पूजा-स्थल का सम्मान करने लगें तो प्रशासन को ये सब कवायद करने की ज़रूरत ही क्यों पड़ेगी ?

-डॉ. वेदप्रताप वैदिक

(लेखक वरिष्ठ पत्रकार और अंतरराष्ट्रीय मामलों के जानकार हैं )

…तो अच्छे नतीजे निकल सकते हैं

 

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.