अभी नहीं बनी भारतीय टीम ‘विश्वकप 2019’ के काबिल

0

बांग्लादेश को हराकर भारतीय टीम ने वर्ष 2018 एशिया कप का खिताब अपने नाम किया| भारतीय टीम ने फाइनल मुकाबले में बांग्लादेश के खिलाफ 3 विकेट के साथ जीत दर्ज की| टीम की इस जीत ने यह सवाल छोड़ दिया है कि ऐसे प्रदर्शन के दम पर भारतीय टीम कैसे विश्वकप जीतेगी| विश्वकप में भारतीय टीम का सामना साउथ अफ्रीका, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया जैसी दिग्गज टीमों से होगा| विश्वकप शुरू होने में ज्यादा समय नहीं बचा है| अगले वर्ष ‘विश्वकप 2019’ इंग्लैंड और वेल्स में 30 मई से 14 जुलाई के बीच खेला जाएगा| क्रिकेट के सबसे बड़े आयोजन में भारतीय टीम अपना पहला मुकाबला साउथ अफ्रीका के साथ 5 जून 2019 को खेलेगी|

एशिया कप में भारत का निम्न स्तर का प्रदर्शन

आईसीसी रैंकिग में भारतीय टीम दूसरे स्थान पर है और हांगकांग जैसी टीम, जो आईसीसी रैंकिग में शामिल भी नहीं है, उस टीम से जीतने में भारतीय टीम को पसीना आ गया था| भारतीय टीम ने एशिया कप में फ़ाइनल सहित कुल 6 मुकाबले खेले, जिसमें से टीम ने 5 में जीत दर्ज की और अफगानिस्तान के खिलाफ खेला गया मुकाबला टाई रहा|

छोटी टीमों ने किया भारत को परेशान

भारत बनाम हांगकांग मुकाबला

सबसे पहले बात करते हैं भारत और हांगकांग के बीच खेले गए मुकाबले की| इस मुकाबले से पहले सभी सोच रहे थे कि भारतीय टीम इस मुकाबले को बड़े अंतर से जीतेगी| वहीं कुछ लोग तो यह आस लगाये बैठे थे कि भारत पहले बल्लेबाजी करेगा तो हांगकांग के खिलाफ बड़ा स्कोर बनाएगा, लेकिन हुआ क्या? भारत ने इस मुकाबले को महज 26 रनों से जीता और सभी की उम्मीदों पर पानी फेर दिया| भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवर में 285 रन बनाए, जिसमें धवन की 127 रनों की पारी देखने को मिली|

एक समय ऐसा प्रतीत हो रहा था कि भारतीय टीम इस मुकाबले में बड़ा स्कोर बनाने में कामयाब हो जाएगी, लेकिन अंतिम 10 ओवर में हांगकांग के गेंदबाजों ने जबरदस्त वापसी की और भारत को 285 रनों पर रोक दिया| वहीं जब इस मुकाबले में हांगकांग की टीम लक्ष्य का पीछा करने उतरी तो क्रिकेट के दिग्गजों ने कहा कि यह लक्ष्य हांगकांग के लिए काफी है, लेकिन हांगकांग के बल्लेबाजों ने भारतीय टीम के होश उड़ा दिए| भारतीय टीम के गेंदबाज मैदान में विकेट के लिए तरसते रहे| भारतीय टीम को पहली सफलता 35वें ओवर में मिली| इसके बाद लगातार टीम ने अपने विकेट खोए और 26 रनों से इस मुकाबले को गंवा दिया| यदि हांगकांग की जगह ऑस्ट्रेलिया या अफ्रीका होती तो परिणाम कुछ और ही होता|

भारत बनाम अफगानिस्तान

वर्ष 2018 का एशिया कप यदि याद रखा जाएगा तो सिर्फ और सिर्फ अफगानिस्तान के प्रदर्शन के लिए| इस टीम ने हर क्रिकेटप्रेमी का दिल जीता है| आईसीसी वनडे रैंकिंग में अफगानिस्तान 10वें स्थान पर हैं, लेकिन टीम ने श्रीलंका, बांग्लादेश, पाकिस्तान और भारत जैसी टीमों को टक्कर देकर सभी को हैरान कर दिया| भारत और अफगानिस्तान के मुकाबले को देखें तो इसका परिणाम टाई रहा था, लेकिन देखा जाए तो यह अफगानिस्तान की जीत ही थी| इस मुकाबले के बाद अफगानिस्तान के कप्तान असग़र अफ़ग़ान ने कहा था कि हमारा यह प्रदर्शन सभी बड़ी टीमों के लिए चेतावनी है|

भारत के खिलाफ जब अफगानी बल्लेबाज बल्लेबाजी कर रहे थे, उस समय भी भारत के गेंदबाजों की जमकर धुलाई हो रही थी| एक समय ऐसा लग रहा था कि अफगानिस्तान भारत को 300 से ज्यादा का लक्ष्य देगा, लेकिन अन्य बल्लेबाजों ने सलामी बल्लेबाज मोहम्मद शहजाद का साथ नहीं दिया| शहजाद ने इस मुकाबले में 124 रनों की पारी खेली थी| अफगानिस्तान ने भारत को जीत के लिए 252 रनों का लक्ष्य दिया था, जिसे टीम हासिल नहीं कर पाई| भारत की शुरुआत काफी मजबूत थी, लेकिन अफगानिस्तान का क्षेत्ररक्षण और स्पिन गेंदबाजी भी दुरुस्त थी| भारत के तीन खिलाड़ी रनआउट हुए थे| टीम का पहला विकेट 110 रनों पर गिरा था, जिसके बाद एक के बाद एक बल्लेबाज आउट होते गए और अंत में यह मुकाबला टाई हो गया|

यानी एशिया कप 2018 में भारतीय टीम का प्रदर्शन बेअसर रहा| ऐसे प्रदर्शन से तो लग रहा है कि अभी भारत ‘विश्वकप 2019’ को जीतने के काबिल नहीं बना है| आपके अनुसार भारतीय टीम का प्रदर्शन एशिया कप में कैसा रहा?

-ह्रदय कुमार 

Asia Cup Final: अंतिम गेंद पर हुआ भारत-बांग्लादेश फाइनल का फैसला

Asia Cup Final: बांग्लादेश के इस खिलाड़ी से रहना होगा सावधान

Share.